I swear !

I swear, since seeing Your face,

the whole world is fraud and fantasy

The garden is bewildered as to what is leaf or blossom.

The distracted birds

can’t distinguish the birdseed from the snare.

A house of love with no limits,

a presence more beautiful than venus or the moon,

a beauty whose image fills the mirror of the heart.

Rumi, The Divani Shamsi Tabriz XV

जिंदगी के रंग -37 

तेज हवा में झोंके में झूमते ताजे खिले गुलाब 

की पंखुड़ियॉं  झड़ झड़ कर बिखरते देख पूछा –

नाराज नहीँ हो निर्दयी हवा के झोंके से ?

फूल ने कहा यह तो काल चक्र हैँ

 आना – जाना,  खिलना – बिखरना 

नियंता …ईश्वर…. के हाथों में हैँ

 ना की इस अल्हड़ नादान  हवा के  झोंके के वश में 

 फ़िर इससे कैसी  नाराजगी ? ? 

Moon and the night.

The

   moons

        stays

                bright,

                      when it

                                  doesn’t

                                              avoid

                                                     the night.

 ~ Rumi