Moon and the night.

The

   moons

        stays

                bright,

                      when it

                                  doesn’t

                                              avoid

                                                     the night.

 ~ Rumi

संगत का असर

 

कहते हैं जैसा साथ, वैसी बात

संगत का असर पङता है,

पर

ना फूल को आया चुभना

ना काटों को आया महकना।

फूलों की कीमत

 

मिट्टी में दबे बीज को हीं

मालूम होता है,

शाखों पर खिले फूलों की

क्या कीमत चुकाई है उसने……….

वसंत बहार – कविता Spring- poetry

“Faith is the bird that feels the light and sings when the dawn is still dark.”
― Rabindranath Tagore

सारे पत्ते पीले पङ,

झङ गये,  मृत सूना सा,

खङा रह गया पेङ।

पतझङ ने ङरा दिया।

ऐसे हीं हम दुखों से ,

ङर जाते हैं।

यह तो खुशियों के आने से पहले की तैयारी है।

पतझङ के बाद  फूलों से भरे वसंत  बहार जैसा।

Image courtesy internet.

सुंदरता-कविता Beauty

 

“You smiled and talked to me of nothing and I felt that for this I had been waiting long.”
― Rabindranath Tagore

 

लोगों की भीङ में किसी

एक पर निगाहें  टिक जायें।

पहली मुलाकात में लगे

पहले मिले हैं ।

घंटों बात करके भी लगे,

अभी बातें अौर भी है।

क्या वे लोग सुंदर होते हैं?

या उनका मन  सुंदर होता है………..

 

Image from internet.