माटी World Soil Day-5 December

इंसान का वजूद हो या

जलते दिए का।

सब माटी से पैदा हुए,

माटी में मिल जाएँगें।

जिसकी सोंधी खुशबू,

रची-बसी होती है ज़िंदगी में।

“मिट्टी के मोल” समझने में माटी को,

ऐसा ना हो अस्तित्व ना रहे जीवन का धरा पर।

5 December – World Soil Day

It is observed on 5 December to raise

awareness about the importance of soil,

healthy ecosystems and human well-being.

सितारे – आकाशगंगा Milky Way

उजले ख़्वाब देख, इश्क़ किया सितारों ने।

चाँद की चाँदनी में दिखे नज़ारों में।

सजी सितारों की बारात आकाश गंगा की बहारों में।

देखा सितारों को एक होते, सितारों में।

उम्र भर की तलाश पूरी हुई शायद।

डूब गए एक दूसरे की आँखों में ज़ायद।

ख़ूबसूरत है कायनात की क़वायद।

न्यूज़- दो आकाश गंगा का विलय।

Two Far-Off Galaxies Are Merging In

Amazing New Pic From Hubble

Telescope Merging galaxies captured

by Hubble.

https://www.theatlantic.com/science/archive/2022/08/galaxy-mergers-colliding-cosmic-matter-milky-way-andromeda/671164/

इश्क़ और पानी पात्र

छुआ-छूत और जात की बात,

हमबिस्तर की रात नहीं रहती याद।

ब्लड की बोतल हो जाती है पाक।

आर्गन डोनेशन लेने में

नहीं रहती कोई बात।

बस विवाह, इश्क़ और पानी पात्र में

आड़े आती है जात।

News- Tank Cleaned With Cow Urine

In Karnataka After Dalit Woman

Drinks Water. There are several tanks

in the village with written messages that

everyone can drink water from there.

https://www.ndtv.com/india-news/tank-cleaned-with-cow-urine-in-karnataka-after-dalit-woman-drinks-water-3539191/amp/1

हिजाब

एक हीं बात के हैं कई नज़रिए।

कहीं कहीं विरोध, कहीं है सपोर्ट।

https://www.firstpost.com/world/popular-iranian-actress-hengameh-ghaziani-arrested-day-after-appearing-in-public-without-hijab-report-11663171.html/amp

Popular Iranian actress Hengameh Ghaziani arrested day after appearing in public without hijab: Report

Earlier this month one of Iran’s top actresses Taraneh Alidoosti posted a picture on Instagram without the mandatory hijab while holding a placard with the protest slogan, ‘women, life, freedom’

रूह-ए-दुर्गा (शुभ नवरात्रि)

नारी के झुकने, झुक कर उठने,

झुकी नज़रों को उठाने की अदा में

दिखती है कायनात की ख़ूबसूरती।

पर नहीं दिखता रूह-ए-दुर्गा ।

क्यों दिखता है सिर्फ़ हुस्न औ जिस्म?

कुछ लोगों की तस्वीर नहीं फ़क़त फ़्रेम

देखने की अजब है आदत।

औरत को तवायफ़….नगरवधु

बनाने की परम्परा जाती नहीं

कि नज़र आते नहीं तवायफ़ को

वधू बनाने वाले।

बदन पे गिरवी निगाहों से आगे देख,

उसका वजूद नज़र आएगा।

NEWS Ankita Bhandari Murder Case –

Main kya 10k mein bik jaungi’: Ankita

told her friend in WhatsApp chat.

ज़िंदगी की जंग (World Suicide Prevention Day observed on 10th September)

इससे तो अच्छा पाषाण युग रहा होगा।

जब जंग भूख व जीवन के लिए होता होगा।

जब अस्मत के जिम्मेदार वस्त्र नहीं होते होंगे।

ग्लैमर का नापतौल कपड़ों से नहीं होता होगा।

कपड़ों पर छींटाकशी की सियासत नहीं होती होगी।

काश जंग देश के किसी गम्भीर मुद्दे पर होता।

“सादा जीवन उच्च विचार” के ज्ञान पर होता।

विचार होता, लोग ज़िंदगी की जंग हार क्यों जातें हैं?

News – BJP still hanging in T-shirts and

khaki shorts: Bhupesh Baghel retorts

on ‘Rs 41k t-shirt’ jibe on Rahul Gandhi

World Suicide Prevention Day observed on 10th September.

ख्वाहिशें तो अनंत हैं!

क्यों आज़ लोग खुश और संतुष्ट नहीं?

क्यों लोग स्वयं को नहीं, दूसरों को देख रहें हैं?

आध्यात्मिक-मानसिक प्रगति से दूर,

भाग रहें हैं भौतिक प्रगति की ओर।

पर है स्वयं के गोली-बारी, हिंसा से लहू-लुहान।

गीता ने सदियों पहले बताया,

जो तुम्हारे पास है उसमें संतुष्ट, ख़ुश रहना सीखो,

क्योंकि ख्वाहिशें तो अनंत हैं।

सन्तुष्टः सततं योगी यतात्मा दृढनिश्चयः।

मय्यर्पितमनोबुद्धिर्यो मद्भक्तः स मे प्रियः।।12.14।।

अर्थ- संयतात्मा दृढ़निश्चयी योगी सदा सन्तुष्ट है।

जो अपने मन और बुद्धि को मुझमें अर्पण किये हुए है?

वह मुझे प्रिय है। (भगवद् गीता अध्याय 12 श्लोक 14)

Salman Rushdie Stabbed In Neck At New York Event, Taken To Hospital. https://www.ndtv.com/world-news/author-salman-rushdie-attacked-on-stage-at-an-event-in-new-york-news-agency-pti-3249899/amp/1

सूक्ष्म तरंगें! शुभ योग दिवस!

दुनिया सागर है ऊर्जा और तरंगो का। सृष्टि शुरू हुई कम्पन और तरंगों से। हम सब भी सूक्ष्म तरंगें हैं। जिस घड़ी, जिस पल, जिस दिन, ब्रह्मांड और हमारे कंपन….. फ़्रीक्वेंसी का योग हो जाएगा, हम एकसार हो जाएँगे और ब्रह्मांड के अनमोल राज़ों से रूबरू होने लगेंगे। हमारी तरंगे हैं हमारे विचार, हमारे भाव – सकारात्मक या नकारात्मक। प्रेम भर देगा प्रेममय ऊर्जा, नफ़रत भर देगा नकारात्मकता। ग़र बदल लिया दिल, दिमाग़ रूह की सोंच, ब्रह्मांड के मधुर गीत के साथ एकलय हो जाएँगें।

All things in our universe are constantly in motion, vibrating. Even objects that appear to be stationary are in fact vibrating, oscillating, resonating, at various frequencies.

HAPPY YOGA DAY!!