अस्तित्व अपना

जो मिला उसमें जीना सीखा लिया।

जो ना मिला उसमें गुज़ारा करना सीख लिया।

चाहना, पसंद करना छोड़ना सीख लिया।

घूमते रही इर्दगिर्द तुम्हारे,

घड़ी की सुइयों की तरह।

क्या अपने आप को था जीत लिया?

या खो दिया अस्तित्व अपना?

यही होती है बज़्म-ए-हस्ती औरत की।

इंतज़ार है!

इंतज़ार है, वो दिन कब आएगा,

जब यह दिन ना पड़े मनाना।

जलते चराग़ सा ए’तिबार है,

मुद्दत से देखते ख़्वाब का आसार है।

जब बराबर की ज़िंदगी हो,

बराबर का मान हो।

इंतज़ार है उस दिन का……

11th October 2022: International

Day of the Girl Child. The theme

for the 2022 International Day of

the Girl Child was “Digital

generation: Our generation.”

क्यों करें ऐतबार?

सच को जो झूठ बताए,

शोर मचा झूठ को सच बनाए।

सुन कर अनसुना करे,

ऐसे रिश्ते क्यों निभाएँ?

जाना नहीं उन राहों पर,

जहाँ मिले अपमान बारंबार।

जो बदले मौसम सा हर बार,

क्यों करना उस पर ऐतबार?