बे-लौस मोहब्बत

चाँद को रोशन

करता है सूरज,

ख़ुद को जला-तपा कर,

अनंत काल से ।

क्या इंतज़ार है उसे,

कभी तो मिलन होगा?

नहीं, आफ़ताब को मालूम,

मिलन नहीं होगा कभी।

फिर भी जल रहा है…….

बे-लौस, निस्वार्थ मोहब्बत में ।