नीलगिरी का पेड़

क्या कभी देखा है नीलगिरी के

लंबे, पतले पेड़ों को ?

रिमझिम बारिश में, हवा में झूमते ?

जब यह अपने ऊपर पड़े छाल को

साँप के केंचुली सा उतार

संगेमरमर सी सफ़्फ़क चिकनी

यूकिलिपटसी काया दमका

हवा में घोल देता हैभीनी-भीनी ख़ुश्बू .

तब लगता है जैसे

कनक छड़ी सी कोई नृत्य प्रवीण नार

दुनिया से बेख़बर

झूम रही है अपने आप में मग्न .

देखा है हम ने नीलगिरी को झूमते- झुलते वृक्ष

अपने वातायन से और कई जगह,

दक्षिण भारत के नीलगिरि पर्वत पर…,,

संगेमरमर के ताज सा शान से खड़े

यूकिलिप्टस को देखना अच्छा लगता है।

नीलगिरी (यूकेलिप्टस) मुख्य रूप से ऑस्ट्रेलिया , तस्मानिया , भारत, अफ्रीका और दक्षिणी यूरोप में नीलगिरी के पौधों की खेती की जाती है। यह पेड़ काफी लंबा और पतला होता है। इसकी पत्तियों से प्राप्त होने वाले तेल का उपयोग औषघि और अन्य रूप में किया जाता है।पेड़ो की कागज बनाने और चमड़ा बनाने के काम में ता है. दक्षिण भारत में नीलगिरि पर्व पर भी यह बहुतायत में पाया जाता है.

Eucalyptus is a genus of over seven hundred species of flowering trees, shrubs or mallees in the myrtle family, Myrtaceae. Along with other genera in the tribe Eucalypteae, they are commonly known as eucalypts.

11 thoughts on “नीलगिरी का पेड़

    1. धन्यवाद मंजू, राहुल . मुझे यह पेड़ और इसके तेल की ख़ुशबू दोनों बेहद पसंद है . 😊

      Like

  1. Rekha ma’am, your line’s are really awesome.

    But Growing eucalyptus decreases the soil fertility. That too, planting eucalyptus as monoculture tree plantations are very harmful to the soil. It decreases the soil pH and increases soil acidity such that Aluminium ions play a dominant role. In 2017, the Karnataka government banned of eucalyptus plantations on private land in the state, including the plantations under farm forestry. In fact, many studies have pointed out that eucalyptus plantations do not absorb ground water and have no adverse impact on the water table.

    Liked by 2 people

    1. That’s Shanky for appreciating and sharing all the valuable details. It’s wonderful to know that you are so well informed.
      First and most important point is – I really like watching this beautiful tree so I have written this poem.
      Secondly this tree is good for hilly and barren fields not for fertile lands. As it is useful for medicinal purposes, that’s why it’s planted in many places.

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s