What is psychoneuroimmunology

Negative Effect of physical and psychological stress on the immune system

Rate this:

Psycho+ Neuro+ Immunology = (PNI) Psychoneuroimmunology is a fast growing field. It studies the relationship between our CNS – the central nervous system and our immune system. Now, its clearly found that physical and emotional stress can have a serious effect on our immune system. 

The effects of stress on the immune system  – Researches show that  under normal circumstances, our body secretes hormones to an infection or injury to help destroy germs or to repair body tissues. But In the condition of physically or emotional stress, our body releases certain hormones which negatively impacts our immune system. These hormones can bind to specific receptors and signal the production of pro-inflammatory cytokines*. it is evident that stress creates an internal or external force that threatens to disrupt the homeostatic balance of our body. Conversely, good mental health plays an important role in strengthening our immune system. 

*(A cytokine is a small protein that is released by cells, especially those in our immune system. There are many types of cytokines, but the ones that are generally stimulated by stress are called pro-inflammatory cytokines। ).

Stay relaxed, Stay happy, Stay healthy !!

 

 

 

तनाव अौर हैप्पी हार्मोन Stress and happy hormones

मनःस्थिति एवं परिस्थिति के बीच असंतुलन से तनाव  होता है। तनाव एक द्वन्द है। यह कुछ हद तक सहायक  है पर अधिक तनाव  मन को अशान्त, अस्थिर एवं शरीर  को अस्वस्थ करता हैं। यह हमारी कार्यक्षमता को प्रभावित करता है। कुछ हार्मोन हमें तनाव से बचने में मदद करतें हैं जिसे हैप्पी हार्मोन  कहते हैं।  तनाव से लङनेवाले हैप्पी हार्मोन को  बढ़ाने  के सरल तरीके निम्नलिखित हैं –

 हैप्पी हार्मोन को बढ़ावा देने के सरल तरीके Natural Ways to Boost Your Happy Hormones ~

  • व्यायाम   Exercise – शारिरिक व्यायाम हमेशा  मानसिक स्वास्थ्य के लिये लाभदायक है। व्यायाम से मन को खुश रखने वाले  सेरोटोनिन/serotonin   का  स्तर  मस्तिष्क में बढ़ाता हैं।

 

  • योग, ध्यान  Yoga, Meditation – योग, ध्यान मन मस्तिष्क को शांत रखते हैं । गर्म स्नान, योग, ध्यान से तनाव में राहत मिलता है क्योंकि इससे  एस्ट्रोजेन, डोपामाइन, सेरोटोनिन, ऑक्सीटोसिन, एंडोर्फिन / Dopamine, Serotonin,  Oxytocin,  Endorphins,  Estrogen  स्त्राव  होतें हैं ।

 

  • खुश रहिेए   Be happy – अपना मन पसंद काम करें। मित्रों के साथ समय बितायें। कॉमेडी , मजेदार सीरीयल देखें, खुल कर  हंसाने वाली बातें , संगीत सुनना तनाव कम करतीं हैं। यह आपके हैप्पी  हार्मोन डोपामाइन / Dopamine को बढ़ावा देने के सरल प्राकृतिक तरीके  है।

 

  • प्रियजनों के साथ समय व्यतीत करना   Quality time with family – अपने साथी, अपने बच्चों या अपने पालतू जानवरों के साथ समय बिताते का  आनन्द  ऑक्सीटोसिन /Oxytocin को बढ़ाता है।

 

  • दूसरों की मदद करना,  Helping others – सकारात्मक काम, प्रशंसा,  अपने अच्छे से होने की भावना या आत्म संतुष्टि से हमारे   न्यूरोट्रांसमीटर मस्तिष्क से डोपामाइन /Dopamine स्त्राव होता है।

 

 

 

 

4 ways yoga can help to reduce stress and ease anxiety

We all know someone who is super into yoga whether it be your friends, your mom, your dad, or your aunt or uncle some people simply swear by it. But why? How does it work?

1. Yoga is calming.

Life is demanding we can all relate. Applying for internships? Awaiting to hear back from that company you would really love to work for? Professors bombarding you with work? Bank account going to shambles? Take a step back. You will gain experience with time, the company will get back to you, your work will get done, and you will succeed if you put the time and effort into doing so. Yoga helps those suffering with anxiety, depression, chronic stress, and PTSD by modulating the body’s stress response according to research conducted by Harvard Medical School. Yoga can help to recenter and revitalize both the body and the mind. It helps us to put our focus on the breath instead of internalized thought processes. There are all different styles, forms, and intensities of yoga so chances are you will be able to find one that you feel is a good match for you.

2. Yoga has proven medical benefits.

Yoga has been proven to help those with hypertension and high blood pressure by restoring something called “baroreceptor sensitivity” in the body which is related to your heart rate. Due to this, yoga has been added to many cardiac rehabilitation programs within the United States. It has been also related to the lowering of cholesterol and sugar intake in some individuals. Additionally, yoga helps to increase muscle strength, flexibility, and endurance.

3. Yoga helps you to stay mindful.

It is important to take some time out of each day to take care of your mental health. The importance of taking care of your mental health was first recognized by in 1909 by mental health pioneers Dorothea Dix and Clifford Beers. They believed in advocating for and providing appropriate resources to people suffering from mental illnesses. Yoga will help you to become mentally stronger. The practice of yoga will become easier with time–you will eventually develop a “flow.” Once you start routinely practicing yoga you might find healthy habits like staying mindful to become easier to incorporate into your day-to-day life. The practice of mindfulness will not just help you stay in the present moment, but will also help you to better monitor what you eat, helps with increasing self-control, tone the body, and improve body image.

4. It is a positive outlet.

There are some schools in the United States that are starting to use yoga as an alternative to detention. These schools encourage mindfulness and meditation methods instead of punishing these youths. Since the enactment of this policy, one school reports that there have been zero suspensions at these schools. The children can take their mindful practice home with them which could also positively impact parent-child relationships. Student meditation is also correlated to the improvement of: test scores, information processing, and dealing with stress caused by deadlines. For those with generalized anxiety or social anxiety, I think that attending yoga classes could help you to get out of your comfort zone in a healthy way. If you are very socially anxious, I would recommend going to yoga the first few times with a close friend and seeing how you feel. For those who are struggling with addiction, yoga could help teach you to pause, delay gratification, and return to the present before making harmful choices. Yoga can help people to feel more comfortable within their own bodies and that feeling is unbeatable.

Videos for yoga at home:

Morning:

Bedtime:

Vinyasa:

Strength & Focus:

Reference

Publications, Harvard Health. “Yoga for Anxiety and Depression.” Harvard Health. N.p., n.d. Web. 11 Feb. 2017. <http://www.health.harvard.edu/mind-and-mood/yoga-for-anxiety-and-depression&gt;.

Publications, Harvard Health. “Yoga – Benefits Beyond the Mat.” Harvard Health. N.p., n.d. Web. 11 Feb. 2017. <http://www.health.harvard.edu/staying-healthy/yoga-benefits-beyond-the-mat&gt;.

Gaia. “Yoga and Addiction: Helping Release the Grip.” The Huffington Post. TheHuffingtonPost.com, n.d. Web. 11 Feb. 2017. <http://www.huffingtonpost.com/gaiam-tv/yoga-for-addiction_b_2670245.html&gt;.

Upworthy. “This School Sends Kids to Meditation Instead of Detention.” YouTube. YouTube, 04 Jan. 2017. Web. 11 Feb. 2017. <https://www.youtube.com/watch?v=ZzjKJK00tT8&gt;.

“Yoga: Fight Stress and Find Serenity.” Mayo Clinic. N.p., n.d. Web. 11 Feb. 2017. <http://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/stress-management/in-depth/yoga/art-20044733&gt;.

बर्न-आउट (एक मनोवैज्ञानिक समस्या)Burn out

Burnout is a state of emotional, mental, and physical exhaustion caused by excessive and prolonged stress. It occurs when you feel overwhelmed, emotionally drained, and unable to meet constant demands.

बर्न-आउट क्या है ?

ज़िंदगी की भागम-भाग, तनाव, काम की अधिकता अक्सर हमे शारीरिक और मानसिक रूप से थका देती है। जब यह थकान और परेशानी काफी ऊंचे स्तर तक चला जाता है तब ऐसा लगने लगता है जैसे जिंदगी की सामान्य समस्याओ को भी सुलझाना कठिन हो गया है। बर्न-आउट मानसिक या शारीरिक कारणो से हो सकता है। यह लंबे दवाब तथा थकान का परिणाम होता है।बर्न-आउट कार्य-संबंधी या व्यक्तिगत या दोनों कारणो से हो सकता है। ऐसे में मानसिक तनाव व स्ट्रैस बढ़ जाता है। स्वभाव में चिड़चिड़Iपन बढ़ जाता है। व्यक्ति अपने को ऊर्जा-विहीन, असहाय व दुविधाग्रस्त महसूस करने लगता है।

बर्न-आउट कैसे पहचाने ?
ऐसे मे नकारात्मक सोच ज्यादा बढ़ जाती है। आत्मविश्वास व प्रेरणा मे कमी , अकेलापन, आक्रोश, नशे की लत, जिम्मेदारियो से भागने जैसे व्यवहार बढ़ जाते है। ऐसा व्यक्ति अपना फ्रस्टेशन दूसरों पर उतारने लगता है। ऐसे मे व्यक्ति हमेशा थका-थका व बीमार महसूस करता है। लगातार सिर और मांसपेशिओ मे दर्द, भूख व नींद मे कमी होने लगती है। अपने कार्य मे रुचि मे कमी, हमेशा असफलता का डर, अपना हर दिन बेकार लगने लगता है। ऐसे व्यक्ति दूसरों के साथ जरूरत से ज्यादा कठोर, असहनशील और चिड़चिड़ा हो जाता है। गैस्ट्रिक व ब्लड-प्रेशर का उतार-चढ़ाव असामान्य हो जा सकता है।
ऐसे परिवर्तनो का मतलब है कि अपने शारीरिक व मानसिक कार्य भार को सही तरीके से संभालने की जरूरत है। अगर संभव है तो कार्य-भार को कम कर देना चाहिए। साथ ही अपने लाइफ-स्टाइल को संयमित करना कहिए। अपनी आवश्यकताओ तथा समस्याओं को समझ कर उनका ध्यान रखना चाहिए।

समाधान-
ऐसी समस्याए अक्सर काम को लत (वर्कहोलिक) बना लेने वाले लोगों में ज्यादा पाया जाता है। इसलिए काम के साथ-साथ मनोरंजन, रचनात्मकता, मित्रों और परिवार के साथ समय बिताना भी जरूरी है। जीवन की खुशिया मानसिक तनाव काम करती है। हर काम का ध्येय सिर्फ जीत-हार, जल्दीबाजी या लक्ष्य-प्राप्ति नहीं रखना चाहिए। सकारात्मक सोच और दूसरों को समझने की कोशिश भी आवश्यक है। जिंदगी की परेशानियों और समस्याओं को सही नजरिए से समझना भी जरूरी है। समस्याओं से बचने के बदले उनका सामना करना चाहिए। काल्पनिक दुनिया से हट कर वास्तविकता और जरूरत के मुताबिक कठिनाइयों को सुलझाना चाहिए। कार्य-स्थल पर टीम मे काम करना, अपनी समस्यओं को बताना, नयी जिम्मेदारियों को सीखना भी सहायक होती है। कुछ लोग ‘ना’ नहीं बोल पाने के कारण अपने को काम के भार तले दबा लेते है। ‘ना’कहना सीखना चाहिए।
प्राणायाम, योग, योगनिद्रा, ध्यान, मुद्रा आदि की भी मदद ली जा सकती है। इससे तनावमुक्ति होती है। स्फूर्ति और आत्मविश्वास बढ़ता है। यह पूरे व्यक्तित्व को सकारात्मक और रचनात्मक ऊर्जा प्रदान करता है। आयुर्वेद मे तुलसी को नर्व-टानिक तथा एंटिस्ट्रैस कहा गया है। अतः इसका भी सेवन लाभदायक हो सकता है,पर गर्भावस्था में बिना सलाह इसे ना लें।

Source: बर्न-आउट ( एक सामान्य मनोवैज्ञानिक समस्या )

Parenting: The Joy and The Challenge – Psychology


Indian Bloggers


 

What type of parent are you?

What type of parents were your parents?

What may be the root cause of your stress & anxiety?

This article is useful for parents, would be parents and people prone to mental illness or those who are suffering mental stress and anxiety. It may help in understanding the root cause and reasons of the issue/s.

Personality theories in Psychology explain that the first 5 years are extremely crucial in building the personality of an individual. These years are usually spent with a parent or another primary caregiver. Parenting or child rearing is the process of promoting and supporting the physical, emotional, social, financial, and intellectual development of a child from infancy to adulthood. It refers to the aspects of raising a child aside from the biological relationship.

Following are the 4 main types of parenting styles.

1.  Authoritarian parenting—(Restrictive, punishment-heavy parenting style)
These parents are demanding but less or not responsive. Authoritarian parents have very high demands and low responsiveness towards their children. Instead of getting feedback for their mistakes children are punished harshly, like being yelled at or corporal punishment. They implement strict rules that are expected to be followed unconditionally. Since the parent believes in authority, children are not given choices or options to achieve a certain goal.

Positive impact on children

Obedient to authority
May become good in following instructions
They may score well in school exams
May be less deviant in their behaviour

 

Negative impact on children

Feels problems in the absence of parental figure
Poor decision taking ability
Low confidence
Low social adjustment
Low self-esteem
Some children may show aggressive behaviour
Some others may show fearful/shy behaviour
Studies show that many may suffer from depression and anxiety.

 

2. Indulgent parenting(Permissive, non-directive or libertarian parenting style)
The parent is responsive but not demanding. Permissive parents are low in demands but high in responsiveness. These parents are more like a friend than a parental figure, so they provide few guidelines and rules. They are very loving and always treat their child like kids. Generally, they do not expect mature behaviour from their children. Sometimes, they may try to control their children with gifts, toys, money, food, chocolates etc.

Positive impact on children

Freedom to make choices
May have adequate self-confidence
May score well in school if interested

 

Negative impact on children

Poor self-regulation and self-control
Poor self-discipline
Believes in violating rules
Takes undue advantage of parents affection
Sometimes children develops blackmailing attitude
Poor social skills
Mostly feel insecure, as they have not learned the value of rules, boundaries and guidance
Generally very demanding self obsessed / involved and selfish
Unruly in school
Poor academics
Childish behaviour, lacks maturity
Unrealistic demands
Stubborn
Studies show they are prone to heavy drinking, drugs and other forms of misconduct

 

3. Neglectful parenting— (Uninvolved, detached, dismissive or hands-off parenting style)
Such parents are neither demanding nor responsive. They remain uninvolved, neglectful, and lack in responsiveness to a child’s needs. They are mostly indifferent, dismissive or even completely neglectful. These parents have little emotional involvement with their kids. Basic needs such as food and shelter are provided, but, emotional involvement is very restricted. A neglectful parent may not participate in the child’s school activities or may hardly interact with the child. At the same time, the degree of involvement may vary considerably from parent to parent. Hardly any rules or demands are made on the child too.

Positive impact on children

Some of them may become self learners.
May develop strong fulfilling relationships outside

 

Negative impact on children

Shy and withdrawn
Extremely low confidence
Prone to substance abuse, crime
Poor thinking ability
Poor emotional and social skills
Prone to stress, anxiety, and fear

 

4. Authoritative parenting— (Child – centred parenting style)
Such parents have reasonable demands and high responsiveness. The authoritative parenting style is usually identified as the most effective. It is flexible. In this style of parenting, the parent has reasonable demands and high responsiveness towards the child. Generally they have high expectations with their children, they also provide their children with resources and support that they need to succeed. These parents also encourage independence and using the child’s own reasoning and understanding. They also encourage their children to express their opinions and feelings.

The discipline method used is reasonable, consistent, and proportionate to the child’s action. Most importantly, the parent explains to the child the reason for disciplining in a logical manner. These parents act as role models and exhibit the same behaviours they expect from their children.

Positive impact on Children

Strong self-regulations skills
Adequate self-confidence
Learn new skills easily
Balanced emotional control
Adequate social skills
Independence in thought, emotion and behavior

 

Negative impact on children – (If parents are more demanding)

Children may be resentful and frustrated
May develop a fear of failure if too much pressure is present
These are thus the 4 main types of parenting that are identified by researchers. A parent can not always fit one category or the other. At the same time, achieving a balance in the interactions with your child is very important. These categories are not watertight compartments, and also differ based on the personality of the parent and child, and the culture in which parenting is taking place. If you feel that your relationship with your child is troubling you significantly, we recommend you seek professional help from a counselor as soon as you can.

 

 

http://www.acciohealth.com/learn/parenting-the-joy-and-the-challenge/

 

 

Image from internet.

जीवन में रिक्तता का अहसास- एमटी नेस्ट सिंड्रोम, मनोविज्ञन Empty nest syndrome – Psychology

empty-nest

Empty nest syndrome is a feeling of loneliness, depression, sadness, anxiety and grief in parents, when their children leave home for job, further studies or to live on their own.

एमटी नेस्ट सिंड्रोम – बङे होने पर बच्चे नौकरी, अध्ययन या घर बसाने के लिये माता-पिता से अलग हो जाते हैं। जिससे माता-पिता मानसिक तनाव, चिंता, दु: ख और अकेलापन महसूस करते हैं । जैसे पंक्षियों के बच्चे बङे होते हीं घोंसला छोङ कर उङ जातें हैं, वैसे हीं बच्चे बङे होने पर घर छोङ कर वैसे हीं रिक्तता का अहसास माता-पिता को देते हैं। यह सिंड्रोम माता-पिता में अवसाद, उदासी, और दु: ख की भावनाएँ भर देता है।महिलाओं में एमटी नेस्ट सिंड्रोम पुरुषों से अधिक पाया गया हैं.
प्रभाव
1. जीवन के उतर्राध की समस्याँए
2. कुछ खोने की भावना
3. अवसाद और चिंता
4. आत्म पहचान खोने की भावना
5. वैवाहिक जीवन पर कुप्रभाव
6. महिलाओं में आम

सकारात्मक प्रभाव –
बच्चों के ना रहने से पारिवारिक काम के दायित्व अौर उससे संबंधित समस्याअों मे कमी आती है। जिससे माता-पिता को एक दूसरे के साथ जुड़ने के लिए नये अवसर मिलते है। फलतः आपसी संबंधों पर सकारात्मक प्रभाव पङता है।

1. पारिवारिक काम के बोझ में कमी –
2. परिवार संघर्ष में कमी
3. संबंधों में सुधार –

 

समाधान

1. सच्चाई स्विकार करते हुए अपने आप को परिवर्तन के लिए अनुकूल करने का प्रयास करना चाहिये।
2. बड़े फैसले तब तक स्थगित करना चाहिये, जब तक मनःस्थिति अनुकूल ना हो। यह तनाव के स्तर को कम रखेगा। उदाहरण के लिये बच्चों के साथ रहने का निर्णय या बड़ा घर बेच कर छोटे घर में रहने का निर्णय आदि तभी लेना चाहिये, जब मन शांत हो जाये।
3. मित्रों और सहयोगियों से मिलना जुलना व संबंध बनाना चाहिये।
4. एक ऐसी बातों की सूची बनाएँ जो आप कभी करना चाहते थें। अपने
रुचि, शौक अौर शगल को फिर से जीवन में लायें।
5. अपनी हाबी को पुनः जीवित करें। लेखन, चित्रकला, संगीत जो भी चाहें, शौक को आगे बढ़ायें।
6. प्राणायाम, योग, व्यायाम आदि जरुर करें।
7. सकारात्मक दृष्टिकोण अपनायें।

 

सुझाव –

कुछ लोग अतिसंवेदनशील होते हैं। उनके लिये यह समस्या स्वंय सुलझाना सरल नाहीं होता है। ऐसे अभिभावकों को काउन्सिलर की मदद लेनी चाहिये।

 

 

images from internet.

खेल – खेल कर स्वस्थ रहें -मनोविज्ञन Psychology-Sports and Physical Activity Reduces Stress

पढ़ोगे लिखोगे बनोगे नवाब।
खेलोगे कूदोगे होगे खराब।

बचपन में यह जुमला अक्सर सुनने के लिये मिलता था। क्या आप विश्वास करेगें, आज यह बात विपरीत होती जा रही है। आज लोग खेल मे भाग लेते हुए तनाव के स्तर को कम करने और अच्छा शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य प्राप्त रखने की बातें कर रहें हैं।

मेडिकल शोधकर्ताओं, डॉक्टरों अौर अमेरिकन एसोसिएशन आफ एंजाईटी एंङ ङिप्रेशन के अनुसार, खेल और नियमित व्यायाम से हम अपनी चिंताओं और अवसाद को नियंत्रित कर अपने दिमाग को राहत पहुँचा सकते हैं।साथ हीं फील गुड एहसास प्राप्त कर सकते हैं। वास्तव में यह सच्चाई भी है कि खेल , व्यायाम तथा योग तनाव से राहत प्रदान करते हैं। ये शारीरिक गतिविधियाँ तनाव कम करते हैं।

तनाव

सामान्य तनाव जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है।पर सामान्य से अधिक तनाव या चिंता गंभीर मानसिक समस्या है। सर्वेक्षणों के अनुसार अमेरिका में हर दस वयस्क में सात गंभीर दैनिक तनाव या चिंता के शिकार होते हैं।

अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन ने 2007 – 2008 में एक सर्वेक्षण किया। इसमें पाया गया, लोगों को तनाव के कारण तथा उससे होने वाले शारीरिक और भावनात्मक तनाव में पिछले एक साल में वृद्धि हुई है।

एक ऑनलाइन सर्वेक्षण के अनुसार 14 प्रतिशत, लोग तनाव से निपटने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करते हैं। 18 प्रतिशत दोस्तों या परिवार से बात करते हैं,। सोकर 17 प्रतिशत लोग तनाव कम करने की कोशिश करते हैं।फिल्में या टीवी देख कर14 प्रतिशत, 13 प्रतिशत संगीत सुन कर अौर खाना या मनपसंद भोजन से 14 प्रतिशत लोग तनाव कम करने की कोशिश करते हैं।

तनाव का प्रबंधन कैसे करें – मानसिक स्वास्थ्य

खेल और नियमित व्यायाम शारीरिक और मानसिक तनाव से राहत देता है। साथ हीं नींद को बढ़ती हैं।

* जीवन में बादलाव जरुरी है –
मनोरंजन, खेल, शरीरिक गतिविधियाँ , योग आदि उपलब्धि की भावना और आत्मविश्वास बढ़ाते हैं। साथ हीं जीवन में परिवर्तन लाते रहते हैं। जो मन में जमे तनाव को पिघलाता हैं।

* एंडोर्फिन – फील गुड मस्तिष्क रसायन
खेल, नियमित व्यायाम अौर शारीरिक गतिविधियाँ, हमारे शरीर में न्यूरोट्रांसमीटर या मस्तिष्क रसायन एंडोर्फिन शरीर के उत्पादन को उत्तेजित करते हैं। एंडोर्फिन हमारे मूड में सकारात्मक परिवर्तन के लिए जिम्मेदार है। एंडोर्फिन के स्तर में वृद्धि से “फील गुड” भावना आती है, दर्द कम होता है और तनाव और अवसाद में कमी आती है। खिलाङी इसे परम उत्साह की स्थिती या रनरस हाई (runner’s high) कहतें हैं।

* समाजीकरण, लोगों से मिलना -जुलना
समाजीकरण किसी भी तनाव प्रबंधन दिनचर्या का एक जरूरी हिस्सा है। लोगों से मिलने -जुलने, टीम में खेलने अौर भाग लेने से हमारे शरीर में ऑक्सीटोसिन हार्मोन का स्त्राव बढ़ाता है। ऑक्सीटोसिन हार्मोन हमें तनावरहित कर चिंता स्तर को कम करता है।

* आत्म सम्मान
क्या आप जानते हैं, आत्म सम्मान की भावना और आत्म प्रभावकारिता की भावना हमारे तनाव के स्तर को कम कर सकते हैं ? जिसे आप खेलकूद से प्राप्त कर सकतें हैं। यह आप की सुस्ती, उदासीनता, आत्म घृणा यहां तक कि अवसाद की भावनाओं को कम कर सकती है।यानि तनाव से लङने के लिये नियमित खेलकूद व व्यायाम शक्तिशाली हथियार है।

* स्वस्थ आदतें
खेलकूद व व्यायाम से अच्छी भूख लगती है। जो हमें पौष्टिक भोजन, नाश्ता और पेय पदार्थों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करती है।साथ हीं वजन भी नियंत्रित करती हैं। इससे सोने की दिनचर्या में सुधार तथा फिटनेस आता है।

* शरीर और मन का कसरत
अध्ययनों से पता चलता है कि शारीरिक गतिविधियाँ सतर्कता और एकाग्रता में सुधार लाती हैं। यह तनाव कम कर शारीरिक ऊर्जा अौर ध्यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ातीं हैं। खेल, ध्यान आदि के समय लिये गये गहरे सांस एंडोर्फिन का उत्पादन कर सक्रिय और स्वस्थ महसूस कराती हैं।

अगर आपको खेल – खेल में शारीरिक और मानसिक पुरस्कार प्राप्त करना हैं, तब खेल अौर शारीरिक गतिविधियाँ उम्र अौर अपनी क्षमता के अनुसार बढ़ाएँ अौर स्वस्थ रहें।