Psychodermatology: Mind and Skin

Recent studies say – Skin problems in maximum cases are bodily symptoms caused by mental or emotional disturbance.

Rate this:

Psychodermatology is a  new discipline in the field of psycho-somatology (i.e. physical illness due to  bad mental condition ). Psychodermatology is the interaction between mind and skin or the interaction between psyche and skin. In simple words,  Psychodermatology is the treatment of skin disorders using psychological and psychiatric techniques by addressing the interaction between mind and skin. It means by staying happy and relaxed one may  overcome skin problems.

Stay Happy,  stay Healthy  !!!!

 

 Psychodermatology – Wikipedia

 

Stay happy, healthy and safe – 52

Mind is indeed the Builder . . .

what is held in the act of mental vision

becomes a reality in the material experience.

We are gradually builded to that

image created within our own mental being.

 


― Edgar Cayce also known as The Sleeping Prophet.

Edgar Cayce

एडगर कैस ने आध्यात्मिक हीलिंग, पुनर्जन्म, स्वप्न, आफ्टरलाइव, और भविष्य की घटनाओं के रूप में विभिन्न विषयों पर काफी हद तक सही भविष्यवाणियाँ की अौर सवालों के जवाब दिए। केयस दावा करते थे कि ये जानकारियाँ उनका अवचेतन मन, नींद व सपने के दौरान देता है। एडगर के बारे में 300 से अधिक पुस्तकें लिखी गई हैं। उन्हें स्लीपिंग पैगंबर का उपनाम भी दिया। यह इस बात का प्रमाण है कि हमारा अवचेतन मन बेहद शक्तिशाली है।

Edgar Cayce was an American self-professed clairvoyant who answered questions on subjects as varied as healing, reincarnation, dreams, the afterlife, Atlantis, and future events while in a self-induced sleep state. Cayce claimed his subconscious mind would explore the dream realm where all subconscious minds are timelessly connected. He is the most documented psychic of all time, with more than 300 books written about him and his material. A nonprofit organization, the Association for Research and Enlightenment,  was founded to store and facilitate the study of the Cayce material. A biographer gave him the nickname The Sleeping Prophet.

courtesy – wikipedia

क्या आप जानते हैं? महारामायण या योग वशिष्ठ क्या है?

Maharamayan or Yoga Vasistha – The Science of Self Realization and the Art of Self Realisation.
The Yoga Vasistha is a  detailed conversation between Sri Rama and his Spiritual teacher Vasistha Maharshi.

Rate this:

योग वशिष्ठ  को ‘महारामायण’ कहा जाता है क्योंकि इसमें वाल्मीकि रामायण से लगभग चार हजार अधिक श्लोक हैं। इसमें करीब 32,000 श्लोक हैं और विषय को समझाने के लिए बहुत सी लघु कहानियां और किस्से इसमें शामिल किए गए हैं। योग वशिष्ठ एक हिंदू आध्यात्मिक ग्रंथ है। जिसे रामायण के लेखक महर्षि वाल्मीकि ने लिखा है। यह आत्म बोध का विज्ञान और आत्म बोध की कला दोनों है। योग वशिष्ठ, श्री राम और उनके आध्यात्मिक गुरु वशिष्ठ महर्षि के बीच एक विस्तृत बातचीत है। अतः मान्यता है कि मानव मन में उठने वाले सभी सवालों के जवाब यह ग्रंथ दे सकता है और मोक्ष पाने में इंसान की मदद कर सकता है। 

Vasistha to Rama –

When the mind is at peace and the heart leaps to the supreme truth, when all the disturbing thought- waves in the mind-stuff have subsided and there is unbroken flow of peace and the heart is filled with the bliss of the absolute, when thus the truth has been seen in the heart, then this very world becomes an abode of bliss.

(II:12)

वशिष्ठ राम से – जब मन शांत  होता है और हृदय सर्वोच्च सत्य की अग्रसर होता है, जब सभी परेशानियाँ व विचार- मन में तरंगें थम जाती हैं और शांति का अखंड प्रवाह होता है और हृदय इस तरह पूर्ण आनंद से भर जाता है, जब सत्य को हृदय में देखा गया है, तब यह संसार आनंदमय बन जाता है।