इंडेक्स

ग्लोबल हंगर इंडेक्स,

 ह्मुमन कैपिटल इंडेक्स,

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट,

मानव विकास सूचकांक,

प्रेस फ्रीडम इंडेक्स,

ग्लोबल जेंडर गैप रिपोर्ट,

और ऐसे ही ना जाने कितने ग्लोबल इंडेक्सों में

हम पीछे हैं,

काफ़ी नीचे हैं।

पर कोरोना में तो शीर्ष पर हैं।

और सैन्य खर्च में आगे हैं!

जो स्थिति है आज,

उसमें क्या यह गम्भीर सवाल नहीं कि वरीयता किसे?

किस बात को दी जाए?

नासमझी की इंतहा !

कहाँ जा रहें हैं हम सब? क्या जितने डाक्टर और नर्सें कोरोंना की बलि चढ़ रहे हैं, उतने फिर से तैयार हो सके है? अपना जीवन दाव पर लगा जीवन देने वालों का यह हश्र? उनकी भूलों को खोज रहे सब, अपनी ग़लतियाँ भूल कर। क्यों कोरोना फैला इस कदर? खोज़ सको तो खोज लो।

Stay happy, healthy and safe -131

#CoronaLockdownDay – 131

Rate this:

There are only two mistakes

one can make along the road to truth;

not going all the way,

and not starting.

 

 

– Buddha

Stay happy, healthy and safe -130

#CoronaLockdownDay – 130

Rate this:

 

I love you

when you bow in your mosque,

kneel in your temple,

pray in your church.

For you and I

are sons/ children of one religion,

and it is the spirit.

 

 

 

Khalil Gibran

Image Courtesy- Aneesh

 

कोविड-19

बात  बड़ी महत्वपूर्ण है। दुनिया है तो बीमारियां होंगी ही और वायरस भी होंगे । पहले भी चीन से  कुछ इंफेक्शन फैले हैं – 2002 में सार्स,  h7 n9 आदि।  पर   कोरोना या कोविड-19 सबसे भयंकर है।  यदि चमगादड़ों की समस्या इतनी गंभीर थी कि 2005 से उस पर शोध  चल रहे थे। इसके लिए बैटवुमैन जैसे शब्द चर्चे में थे। तब क्या समय रहते चेतावनी और रोकथाम या अन्य देशों से मदद लेने का प्रयास नहीं किया जाना चाहिए था? शायद लाखों लोगों की जानें बच जातीं।

China’s bat woman  warns coronavirus is just the tip of the iceberg

Shi Zhengli, a virologist renowned for her work on coronavirus in bats, emphasized on the need for studying viruses among wild animals in advance to prevent another pandemic. BLOOMBERG NEWS25 May, 2020 9:44 pm IST