ऑटो पाइलट मोड, Autopilot mode – Positive Psychology

तन के ताक़त से मज़बूत है मन।
बस चाहिए अदम्य इच्छा शक्ति और आत्म नियंत्रण।
ज़िंदगी सफ़र है बिखरने-सिमटने, ख़ुशियों-मुश्किलों की।
आइये, चलते है सफ़र-ए-ज़िंदगी।
सभी को अदा करना है रोल अपना ।
उम्र भर सफ़र में तन्हा हों या हो कारवाँ।
अपने आप पर भरोसा बनाए रखिये।
ज़िंदगी आप की है, संयम और जज़्बा बनाए रखिए।
राह-ए- सफ़र में धूप हो के छाँव,
लुत्फ़ उठाईये, सफ़रनामा बेहतरीन बनाए रखिए।

Sometimes we live on an autopilot mode to avoid some issues/problems of life. it feels like someone else is driving your life, not you.

Autopilot is an automatic, fast, and unconscious way of thinking. Living on autopilot means leaning towards the most comfortable thinking mode. Sometimes Our brain developes an unconscious decision-making system so we can take care of routine tasks, but it’s not a good practice. Actually Living on autopilot disengages us from our present and our future.

Signs of Autopilot mode– Live in a fixed routine, avoid trying new things. absent minded behaviour, want to stay in comfortable human autopilot state of habitual activities, failures of awareness, live in comfort zone.

Tips to get you started – Come out of fixed routine, practice mindfulness, come out of your comfort zone, try to train the Brain to take Better Decisions.

यूज़ एंड थ्रो

कुछ लोगों को दूसरों को

इस्तेमाल करने की आदत होती है।

अगर ना करने दिया

तो नाराज़ हो जातें हैं।

पर समझा करो यार –

हर कोई यूज़ एंड थ्रो नहीं होता।