रिश़्ते

 

हाथ पकङना साथ नहीं होता
हाथ छूटना , संबंध टूटना नहीं होता।

अकेले रिश्ते निभाये नहीं जाते,
जैसे एक हाथ से ताली बजाई नहीं जाती।

एक दूसरे के लिये इज़्जत और ईमानदारी हो तो
रिश़्तों का निभाना अौर निभना
अपने आप हो जाता है……

Sweet words

 

मधुर वचन है औषधि, कुटिल वचन है तीर |

श्रवन द्वार है संचरे, साले सकल सरीर ||

 

Sweet words are like medicine,

harsh words are like arrows.

Which enter through the doors of the ears,

give distress to the whole body.

 

~~Kabir