रॅपन्ज़ेल सिंड्रोम Rapunzel syndrome

Rapunzel syndrome – Though its named after a fairy tale with happy ending, but Rapunzel syndrome is an extremely rare and dangerous medical condition . Where person eats hair. The eaten hair become tangled and trapped in their stomach. This causes a trichobezoar (hair ball) to form, which has a long tail extending into the small intestine. This Mental Disorders is part of obsessive-compulsive disorders.

Rate this:

 

 संस्मरण –

           यह एक सच्ची घटना है। तब मैं शायद 8 या 9  साल की थी। एक दिन मैं अपने माता पिता के साथ एक पारिवारिक मित्र के यहां पहली बार गई। उनकी बड़ी प्यारी और सुंदर सी बेटी थी। जो लगभग मेरे ही उम्र की थी। वह बार-बार मेरे साथ खेलना चाह रही थी। पर ना जाने क्यों, उसके माता-पिता उसे रोक रहे थे। आखिरकार, वह मेरे बगल में आकर बैठ गई। बड़े प्यार से वह मेरे हाथों और गालों को छू रही थी। मुझे लगा, शायद वह मुझसे दोस्ती करना चाहती है।

 

फिर अचानक उसने झपट्टा मारा। अपनी मुट्ठी में उसने मेरे खुले, काले और घने बालों को पकड़ लिया और झटके से खींच लिया। जितनी बाल टूट कर उसकी मुट्ठी में  आये। वह जल्दी-जल्दी उन्हें मुंह में डालकर खाने लगी।उसके माता-पिता ने जल्दी-जल्दी उसके हाथों से बाल लेकर फेंके।

यह घटना मेरे लिये बेहद डरावना  था। उस समय मैं बहुत भयभीत हो गई थी।  उसके माता-पिता ने बताया कि यह एक तरह का मनोरोग है। कुछ ही समय पहले उन्होंने अपनी बेटी के पेट का ऑपरेशन करवा कर बालों का एक गोला निकलवाया था। जो कुछ सालों से लगातार  बाल खाने की वजह से उसके पेट में जमा हो गया था। इसी वजह से वे उसे मेरे साथ खेलने नहीं दे रहे थे।

 

तब मुझे मनोविज्ञान या किसी सिंड्रोम की जानकारी नहीं थी। बस रॅपन्ज़ेल की कहानी मुझे मालूम थी। अभी कुछ समय पहले ही मुझे न्यूज़ में इस बारे में  फिर से पढ़ने का मौका मिला । जिससे पुरानी यादें ताजी हो गई। तब आप सबों से इस सिंड्रोम की जानकारी बांटने का ख्याल आया।

 

रॅपन्ज़ेल सिंड्रोम

वैसे तो रॅपन्ज़ेल लंबे, खूबसूरत बालों वाली एक काल्पनिक युवती का चरित्र  है। लेकिन इस कहानी के नाम पर रखा गया, रॅपन्ज़ेल सिंड्रोम एक अत्यंत दुर्लभ मनोरोग है। ऐसे लोग  बाल खाते हैं।   खाया हुआ बाल उनके पेट में  एक ट्राइकोबोज़र (बाल की गेंद) सा बन जाता है। यह समस्या  घातक भी हो सकती है। यह मानसिक बीमारी एक प्रकार का ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर है। वास्तव  में रॅपन्ज़ेल सिंड्रोम का कारण क्या है, यह अभी तक नहीं जाना जा सका है।


परी कथा रॅपन्ज़ेल 

 यह  एक जर्मन  परी-कथा है। जिसमें डेम गोथेल नामक  जादूगरनी  है। जिसने  सुनहरे, लंबे अौर  सुंदर  बालों वाली बच्ची रॅपन्ज़ेल को सबकी नज़रों से दूर जंगल के बीच एक ऐसी मीनार में कैद कर दिया। जिस पर चढ़ने के लिए न तो सीढ़ियां थी। ना ही अंदर घुसने के लिए कोई दरवाज़ा। उसमें था तो सिर्फ़ एक कमरा और एक खिड़की।  जब जादूगरनी रॅपन्ज़ेल से मिलने जाती । तब वह मीनार के नीचे खड़ी हो जाती थी और उसे यह कह कर बुलाती थी  – रॅपन्ज़ेल, रॅपन्ज़ेल, अपने बाल नीचे करो, (“रॅपन्ज़ेल, रॅपन्ज़ेल, लेट डाउन योर हेयर” ) ताकि मैं सुनहरी सीढ़ी पर चढ़ कर ऊपर आ सकूं।

एक दिन एक राजकुमार उस जंगल से गुजरा। राजकुमार ने  रॅपन्ज़ेल  को गाते हुए सुना। उसके मधुर गीत को सुनकर वह सम्मोहित हो गया। राजकुमार उस आवाज को खोजते हुए मीनार के पास पहुंचा। उसे ऊपर जाने का कोई रास्ता नजर नहीं आया। फिर उसने जादूगरनी को रॅपन्ज़ेल  बालों के सहारे ऊपर जाते देखा। जादूगरनी के जाने के बाद राजकुमार भी उस तरीके से ऊपर गया। ऊपर जाकर वह रॅपन्ज़ेल से मिला। दोनों में प्यार हो गया। कहानी के अंत में दोनों ने एक दूसरे से शादी कर ली।

रॅपन्ज़ेल - विकिपीडिया

 

Address the real issues

The Ministry of Health must immediately retract and correct the misinformed infographic on depression, says Smita Sahay

The Health Ministry’s ‘To Cope with Depression’ infographic is misinformed and erroneous on so many levels that instead of actually helping survivors or their caregivers with information, it reinforces the very stigma and stereotypes that so many mental health professionals and organisations are working very hard to address.

The text on the said poster claims, ‘To cope with depression

•  follow a routine

•  travel

•  be creative

•  take multivitamins

•  think positive

•  practice yoga

•  stay clean

•  sleep for minimum eight hours

•  eat fruits

•  go for walks

Great wellness advice. But that is the thing—this is ‘wellness’ advice, not treatment advice. One could arguably reuse the same poster for all kinds of wellness advice. And that is not the worst problem with the message. The bigger problem is that every single one of the ten pieces of advice is exactly what people battling depression find most daunting. Would the Ministry advise flu patients to ‘drop their body temperatures’ in order to ‘cope with influenza’?

There are many places one could read the definition of depression, such as, the World Health Organization website, the International Classification of Diseases Handbook 10 and the Diagnostic and Statistical Manual of Mental Disorders Fifth Edition.

Easier still, one could Google or Bing ‘symptoms of depression’ and learn a lot about this disease which is one of the leading causes of disability and mortality. Through this search one would even stumble upon WHO reports that claim that India is ‘the most depressed country’ in the world.

Let us put some of this information into perspective:

• Depression is NOT just an extended period of ‘low mood’. It is characterised by an unshakeable existential crisis and a complete lack of self-love.

• The word ‘depression’ represents a spectrum of depressive disorders that affect a large part of the population, across ages, socio-economic classes and locations.

• Depression CAN be diagnosed by several psychometric tests, physical examination and blood tests.

• Certain physical illnesses, such as a malfunctioning thyroid, low vitamin D or B12 levels, low magnesium levels and celiac disease CAN mimic or cause depressive disorders.

• Depressive disorders left untreated for long durations CAN cause or worsen physical illnesses, communicable and non-communicable, such as tuberculosis, cardio-vascular issues, type 2 diabetes and HIV.

• Low and middle income households in India ARE the worst affected.

• Depression IS the leading cause of suicides, ~1,35,000.

• People suffering from depression do NOT receive help because of stigma, lack of awareness and non-availability of health services.

When life seems meaningless and living is too much of an effort, how can one be expected to take their vitamins on time? Most depressive eating happens in binges of junk or not at all because of lost appetite; simply asking them to ‘eat fruits’ won’t work. When some of the most tell-tale signs of depression are insomnia or hypersomnia, what can advice to ‘sleep eight hours’ achieve?

An effective way to address depression is through a combination of three kinds of efforts in tandem: (i) drugs administered responsibly by a registered psychiatrist, (ii) psychotherapy with a licensed psychologist and (iii) self-care that includes exercise, mental health hygiene routine and good nutrition, in short, the advice on the poster. Take any of these three pillars away and the mental health plan will collapse. The Ministry has, for reasons best known to them, left out two extremely crucial elements of a complete mental health plan—the psychiatrists’ drugs and the psychologists’ therapy, and failed to label the infographic as ‘Self-care to Cope with Depression’.

Of course, self-care in generous doses along with therapy and, if needed, drugs, will catalyse recovery and management of depressive disorders wonderfully. Cases of mild clinical depression might even get addressed through self-care only, but in cases of moderate and severe clinical depression, when co-morbidity, risk of addiction, dysfunctionality and suicide risk are darkly significant, only self-care will achieve nothing for two reasons: (i.) the motivation and ability to undertake self-care is near zero in the patient, and (ii.) even in theory, mere self-care will not help with either the chemical imbalance in the brain and nervous system, nor with the downward spiral of darkness that depressed thoughts are.

The Health Ministry’s role must be to address real issues such as extremely poor psychiatrist-patient ratio through increased number of psychiatry seats in medical colleges, systematic licensing of psychotherapists, and multiple programs to spread mass awareness about mental health issues. In partnership with the Ministry of Culture and NGOs such as the Mental Health Foundation of India, the Health Ministry must also work on bringing about cultural change through the use of responsible language and addressing the shame and stigma that depression brings to patients. The Ministry must correct this irresponsibly tweeted infographic and must come down hard on individuals and organisations that spread misinformation on the spectrum of diseases as misunderstood as depression that hurts and kills millions of people.

Smita Sahay is Founder of the Calm Space Support Group Program.

News – Health ministry’s depression poster

The poster seems to consider depression as a manageable condition . Depression is a state of low mood that affects a person’s thought, behaviour, feeling & sense of well-being. One must take up activities that keep him or her boosted in order to cope with depression.

Why Are We Ashamed Of Our Mental Health?

Fractured Faith Blog

I have had full blown man flu (aka a slight cold) this week and have made a point of ensuring that the entire world has known about it. Bar putting a two page advert in the local newspaper I have done everything humanly possible to squeeze the last drop of sympathy from my cynical family and largely unsympathetic work colleagues. And now I’m shouting it from the rooftops on WordPress – I HAVEN’T BEEN WELL!!!

You see if us men don’t let you ladies know when we are ill then you largely ignore us. Well maybe that’s a tad unfair. You don’t totally ignore us. Not if you include such loving observations as ‘Oh man up’, ‘Grow a pair’ and ‘You think that’s bad. Try childbirth’. These are just a selection of the loving comments that I have received down the years from my adoring wife. Other more creative and…

View original post 716 more words

What You Should Know About Mental Health – Psychology

individuals stigma

 

 

Mental health is a state of well-being in which every individual realises his or her own potential, can cope with the normal stresses of life, can work productively and fruitfully, and is able to make a contribution to her or his community.

Mental health shows the level of psychological and emotional well-being. Our behaviour is guided by our mental health at every stage of life. Healthy, sound and good mental health is a boon as it provides the ability to enjoy life. However, mental illnesses are very common these days. According to the WHO, nearly half of the world’s population are affected by mental illness with an impact on their self-esteem, relationships and ability to function in everyday life.

Physical and mental health complement each other: Physical and mental health are closely associated. Recent studies have proved that a number of physical illnesses actually root from a mental health problem. These are known as Psychosomatic problems.

The body and the mind are intricately connected: In other words…… To continue reading Please click here

खेल – खेल कर स्वस्थ रहें -मनोविज्ञन Psychology-Sports and Physical Activity Reduces Stress

पढ़ोगे लिखोगे बनोगे नवाब।
खेलोगे कूदोगे होगे खराब।

बचपन में यह जुमला अक्सर सुनने के लिये मिलता था। क्या आप विश्वास करेगें, आज यह बात विपरीत होती जा रही है। आज लोग खेल मे भाग लेते हुए तनाव के स्तर को कम करने और अच्छा शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य प्राप्त रखने की बातें कर रहें हैं।

मेडिकल शोधकर्ताओं, डॉक्टरों अौर अमेरिकन एसोसिएशन आफ एंजाईटी एंङ ङिप्रेशन के अनुसार, खेल और नियमित व्यायाम से हम अपनी चिंताओं और अवसाद को नियंत्रित कर अपने दिमाग को राहत पहुँचा सकते हैं।साथ हीं फील गुड एहसास प्राप्त कर सकते हैं। वास्तव में यह सच्चाई भी है कि खेल , व्यायाम तथा योग तनाव से राहत प्रदान करते हैं। ये शारीरिक गतिविधियाँ तनाव कम करते हैं।

तनाव

सामान्य तनाव जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है।पर सामान्य से अधिक तनाव या चिंता गंभीर मानसिक समस्या है। सर्वेक्षणों के अनुसार अमेरिका में हर दस वयस्क में सात गंभीर दैनिक तनाव या चिंता के शिकार होते हैं।

अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन ने 2007 – 2008 में एक सर्वेक्षण किया। इसमें पाया गया, लोगों को तनाव के कारण तथा उससे होने वाले शारीरिक और भावनात्मक तनाव में पिछले एक साल में वृद्धि हुई है।

एक ऑनलाइन सर्वेक्षण के अनुसार 14 प्रतिशत, लोग तनाव से निपटने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करते हैं। 18 प्रतिशत दोस्तों या परिवार से बात करते हैं,। सोकर 17 प्रतिशत लोग तनाव कम करने की कोशिश करते हैं।फिल्में या टीवी देख कर14 प्रतिशत, 13 प्रतिशत संगीत सुन कर अौर खाना या मनपसंद भोजन से 14 प्रतिशत लोग तनाव कम करने की कोशिश करते हैं।

तनाव का प्रबंधन कैसे करें – मानसिक स्वास्थ्य

खेल और नियमित व्यायाम शारीरिक और मानसिक तनाव से राहत देता है। साथ हीं नींद को बढ़ती हैं।

* जीवन में बादलाव जरुरी है –
मनोरंजन, खेल, शरीरिक गतिविधियाँ , योग आदि उपलब्धि की भावना और आत्मविश्वास बढ़ाते हैं। साथ हीं जीवन में परिवर्तन लाते रहते हैं। जो मन में जमे तनाव को पिघलाता हैं।

* एंडोर्फिन – फील गुड मस्तिष्क रसायन
खेल, नियमित व्यायाम अौर शारीरिक गतिविधियाँ, हमारे शरीर में न्यूरोट्रांसमीटर या मस्तिष्क रसायन एंडोर्फिन शरीर के उत्पादन को उत्तेजित करते हैं। एंडोर्फिन हमारे मूड में सकारात्मक परिवर्तन के लिए जिम्मेदार है। एंडोर्फिन के स्तर में वृद्धि से “फील गुड” भावना आती है, दर्द कम होता है और तनाव और अवसाद में कमी आती है। खिलाङी इसे परम उत्साह की स्थिती या रनरस हाई (runner’s high) कहतें हैं।

* समाजीकरण, लोगों से मिलना -जुलना
समाजीकरण किसी भी तनाव प्रबंधन दिनचर्या का एक जरूरी हिस्सा है। लोगों से मिलने -जुलने, टीम में खेलने अौर भाग लेने से हमारे शरीर में ऑक्सीटोसिन हार्मोन का स्त्राव बढ़ाता है। ऑक्सीटोसिन हार्मोन हमें तनावरहित कर चिंता स्तर को कम करता है।

* आत्म सम्मान
क्या आप जानते हैं, आत्म सम्मान की भावना और आत्म प्रभावकारिता की भावना हमारे तनाव के स्तर को कम कर सकते हैं ? जिसे आप खेलकूद से प्राप्त कर सकतें हैं। यह आप की सुस्ती, उदासीनता, आत्म घृणा यहां तक कि अवसाद की भावनाओं को कम कर सकती है।यानि तनाव से लङने के लिये नियमित खेलकूद व व्यायाम शक्तिशाली हथियार है।

* स्वस्थ आदतें
खेलकूद व व्यायाम से अच्छी भूख लगती है। जो हमें पौष्टिक भोजन, नाश्ता और पेय पदार्थों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करती है।साथ हीं वजन भी नियंत्रित करती हैं। इससे सोने की दिनचर्या में सुधार तथा फिटनेस आता है।

* शरीर और मन का कसरत
अध्ययनों से पता चलता है कि शारीरिक गतिविधियाँ सतर्कता और एकाग्रता में सुधार लाती हैं। यह तनाव कम कर शारीरिक ऊर्जा अौर ध्यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ातीं हैं। खेल, ध्यान आदि के समय लिये गये गहरे सांस एंडोर्फिन का उत्पादन कर सक्रिय और स्वस्थ महसूस कराती हैं।

अगर आपको खेल – खेल में शारीरिक और मानसिक पुरस्कार प्राप्त करना हैं, तब खेल अौर शारीरिक गतिविधियाँ उम्र अौर अपनी क्षमता के अनुसार बढ़ाएँ अौर स्वस्थ रहें।

जागरूकता –  मानसिक स्वास्थ mental health awareness


Indian Bloggers

 

 

mh

Great initiative by Accio health – event on spreading mental health awareness.

What is psychosomatic problems ? Watch the video.

आज़ के भाग दौड़ के युग में  छोटी -छोटी मानसिक समस्याएँ बढ़ती जा रहीं हैं. जो आगे चल कर गम्भीर रुप लेने लगती हैं,  क्योंकि अक्सर हम इन समस्याओं पर उचित ध्यान नहीँ देते हैं. हमारे समाज में मानसिक समस्याओं को नकारात्मक रुप में देखा जाता हैं. इसलिये भी लोग इन समस्याओं   को  बताने  और सहायता लेने में झिझकते हैं.

Watch the video  – Conversation around mental health  

               जब कि,  मानसिक स्वस्थ पर भी शारीरिक स्वस्थ की  तरह ध्यान देना ज़रूरी हैं. बहुत सी स्वस्थ सम्बन्धित समस्याएँ साइकोसोमैटिक होतीं हैं. अर्थात मानसिक समस्याएँ गम्भीर शारीरिक बीमारियों का रुप लेने लगती हैं.

एकसीओ   हेल्थ ने  मनसिक स्वस्थ सम्बन्धित जागरूकता फैलने के लिये  ने एक सफल ऑनलाइन, लाईव कार्यक्रम आयोजित किया. जिसका लाईव शो फेस बुक पर भी आया.

इसमें अपने विचार स्मिता, समेँथा और डा रेखा ने प्रस्तुत किये हैं और  अनु के अपनी खूबसुरत कविता सुनाई . इसे आप इस लिंक पर देख सकते हैं –

Watch the video- Conversations around mental health