दुआओं में नाम ना होगा !

दूसरों को दर्द देने वाले को

मालूम होती है ख़ता अपनी।

क्यों जाया करना लफ़्ज इन पर?

इन्हें ना दे बद-दुआ, पर तय है

दुआओं में नाम ना होगा इनका।

जब कोई चोट और दर्द दे कर,

अपनी हीं तकलीफ़ का राग सुनाता है,

तब एक पुरानी कहावत याद आती है –

सूप बोले तो बोले, चलनी बोले जिसमें सौ छेद।

Psychological Fact – One may end up feeling exhausted, depressed, anxious, frustrated, and physically sick when Toxic people act as a victim.

7 thoughts on “दुआओं में नाम ना होगा !

  1. सच्चाई को दर्शाती सुंदर पंक्तिया 👌
    जीवन दुःखद तब हो जाता है जब ऐसे लोगो के सम्पर्क में आपको बार-बार आना होता है क्योंकि
    रिश्तों को निभाने का भार संवेदनशील लोगो पर ही होता है🙏

    Liked by 1 person

  2. Ekdam satik kaha…….khubsurat rachna….
    दूसरों को दर्द देने वाले को

    मालूम होती है ख़ता अपनी।

    क्यों जाया करना लफ़्ज इन पर?

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s