तौहीन

कुछ लोग समझते हैं,

जिस की जब चाहें तौहीन कर सकते हैं।

क्यों इतना अहंकार?

भूलते है, अपनी रुसवाई कैसी लगती है?

भूल जातें हैं, जो देंगे वह वापस पाएँगे।

भूल जातें हैं उनसे बड़ा होगा कोई।

भूल जातें हैं, हो जातें है छोटे लोगों की नज़रों में।

भूल जाते हैं, ना ज़मीं कम है ना आसमाँ।

मौन अवज्ञा झेलने वालों का न्याय

ऊपर वाला ले लेता हैं हाँथो में अपने।

Psychology- Understanding behaviour

Generally people insult others because

they are insecure and immature. They want

to put you in your place. They’ll give you the

cold shoulder. This is emotional abuse.

Take a gentle approach to make them

understand or Ignore it until it blows over.

बीमार

कुछ लोग प्यार और स्नेह नहीं समझते

क्योंकि प्यार का मतलब वे जानते हीं नहीं।

उन्हें सिर्फ़ दूसरों की ग़लतियाँ दिखती है

क्योंकि उन्हें अपनी ग़लतियाँ दिखतीं नहीं।

उनकी दुनिया में लोग सिर्फ़ शतरंज के प्यादे हैं,

उनका मन बहलाने के लिए।

आत्म-प्रशंसा से भरपूर ग़र कोई आपको

आपकी भूल दिखा-दिखा शर्मिंदा करें,

छुपे तरीक़े से आक्षेप करें,

लोगों से मिल कर आपके बारे में भ्रामक बातें फैलाए।

इनसे एक सीमा या दूरी है ज़रूरी क्योंकि ये बीमार हैं।

Psychology- understanding behaviour

What Are Narcissistic Traits? It include having a strong sense of self-importance, experiencing fantasies about fame or glory, exaggerating self abilities, craving admiration, exploiting others, and lacking empathy.

How to Cope With a Narcissist

* Don’t take it personally

* Set boundaries

* Advocate for yourself

* Create a healthy distance

प्रकृति

https://www.firstpost.com/india/chiles-atacama-desert-said-to-be-worlds-driest-place-turns-into-valley-of-flowers-11101401.html/amp

जिस्म

जिस्म तो पेड़, पहाड़

औरत, पुरुष सभी के होते है।

ना जाने यह जुनून, यह सौंदर्य-बोध कब बना,

जिसमें नारी और पुरुष सिर्फ़

जिस्म सौंदर्य से मापे जाने लग़े।

आज के सौंदर्यशास्त्र में किसी को चाहिए,

जीरो फ़िगर, किसी को चाहिए मसलस।

लीपोसक्शन या मिले सिन्थेटिक सिंथोल से।

सेहत का जो भी हो।

हुस्न, जिस्म से आगे भी होता है,

यह ख़्याल क्यों नहीं आता ज़ेहन में?

Synthol is a substance used by body builders as a temporary implant which is injected deeply into the muscle. The enlargement effects are immediate. Synthol is used to enlarge their volume (for example triceps, biceps, deltoids, muscles of the calf). The side effects of synthol are manifold and they can also cause a damage of nerves.

अपराध बोध

ना मारो अपनी रूह, आत्मा, ज़मीर को।

अपने ऊपर आक्रोश और ग़ुस्सा कर,

अपने लिए कड़वे नकारात्मक बातें कर।

अपने-आप को

अपराध बोध में ना डुबाओ।

Psychological Fact- Guilt is a self-conscious

emotion that involves negative

evaluations of the self, feelings of distress,

and feelings of failure. It’s not good for

our health. Always protect your mental

well-being and quality of life.

छल

दर्द और छल बदल देता है आदतें।

धोखा खाए लोग किसी पर

भरोसा करने से डरने लगते है।

दूसरों के छल झेल कर भी जो निश्छल रहे,

वे वह रौशनी हैं जो दमकते रहते हैं

बिना हार माने।

Psychological fact-

long-term effects of being cheated on –

It may take a long time to heal. It can cause

chronic anxiety, post-traumatic stress, depression,

and mistrust for a long time after the event.

Child Rights and You- please attend (CRY ) program

Please join us for this amazing panel discussion on the theme of ‘Women of Tomorrow: Rising Against All Odds’ to be held on 5th March, 4.30 to 6.00pm. Ours is a diverse panel with representatives from corporates, journalists, an actress along with children from CRY intervention areas from all 4 regions as part of the panel. Registration link: https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSdeYo6LicYqBUAxkdDcoe-C5LOdsIYPn86k3-LBBlpSE–CiA/viewform
Requesting, please also kindly spread the word so that we can have massive participation for the event.

Here’s the Zoom link that you can use: https://us02web.zoom.us/j/86944302080 Password – 12345

CRY is organising a program . They want to encourage the children specially girl child. It would be great if you all will attend this program.
If you are interested in attending this program, register yourself.
Thank you!

लक्ष्य

कहते हैं ग़र अफ़सानों को अंजाम तक मौन रख कर ले जाये तो कोशिशें कामयाब होतीं है। ना राज़ खोलें ज़बान से, ना नज़रों से। तो नज़रें नहीं लगेंगी। लक्ष्य पाना है, तो बातों को अपनों से और ग़ैरों से राज़ बना सीने में छुपा रखना हीं मुनासिब है।

Psychology Fact- Research Reveals That Announcing Your Goals Makes You Less Likely to Achieve Them