क्या फ़र्क़ है पड़ता (International Day of Older Persons -1 October)

उम्र-ए-रफ़्ता ना लौटे,

क्या फ़र्क़ है पड़ता?

उजालों का भी समय है ढलता।

सूरज भी है ढलता।

बस ज़िंदगी ख़ूबसूरत

और हो सुकून भरी।

यही है कामना।

उम्र-ए-रफ़्ता ना लौटे,

क्या फ़र्क़ है पड़ता?

The UN is marking IDOP by encouraging

countries to draw attention to and

challenge negative stereotypes and

misconceptions about older persons

and ageing, and to enable older persons

to realize their potential.

2022 Theme:Resilience of Older Persons

in a Changing World

रात की आग़ोश में

ज़द्दोजहद में ज़िंदगी के,

थके, बेचैन दिन,

कट जाते है निशा के इंतज़ार में।

आ कर गुज़र जाती है रात भी,

किसी याद में।

रात की आग़ोश में,

थक कर सो जाते हैं ख़्वाब।

जागते रह जातें है

चराग़ और महताब…..चाँद।

जारी रहती है सफ़र-ए- ज़िंदगी।

दर्द और ख़ुशियाँ

दर्द हो या ख़ुशियाँ,

सुनाने-बताने के कई होते हैं तरीक़े।

लफ़्ज़ों….शब्दों में बयाँ करते हैं,

जब मिल जाए सुनने वाले।

कभी काग़ज़ों पर बयाँ करते है,

जब ना मिले सुनने वाले।

संगीत में ढाल देते हैं,

जब मिल जाए सुरों को महसूस करने वाले।

वरना दर्द महसूस कर और चेहरे पढ़

समझने वाले रहे कहाँ ज़माने में?

इतना तो मेरा हक़ बनता था!

मालूम है कि ज़िंदगी है एक रंगमंच

और हम सब किरदार।

पर कौन है शेष रह गए कई अनुत्तरित

सवालों के जवाब का ज़िम्मेदार ?

सब जाएँगें ख़ाली कर बस्ती एक दिन।

पर ऐसे बिन बताए जाता है कौन?

बरहम….. आक्रोश, नाराज़गी जाती नहीं।

ज़वाब मिले, इतना तो मेरा हक़ बनता था।

अपनी बहती धार में

बिना मुझसे पूछे,

बिन मेरे अनुमति।

तुमने मेरे पत्थरों से

बनाया था आशियाँ अपना।

बस मैं उसे हीं वापस ले जा रही हूँ,

अपनी बहती धार में।

तब तुम शक्तिशाली थे।

आज़ मैं प्रचंड हूँ।

जिस्म

जिस्म तो पेड़, पहाड़

औरत, पुरुष सभी के होते है।

ना जाने यह जुनून, यह सौंदर्य-बोध कब बना,

जिसमें नारी और पुरुष सिर्फ़

जिस्म सौंदर्य से मापे जाने लग़े।

आज के सौंदर्यशास्त्र में किसी को चाहिए,

जीरो फ़िगर, किसी को चाहिए मसलस।

लीपोसक्शन या मिले सिन्थेटिक सिंथोल से।

सेहत का जो भी हो।

हुस्न, जिस्म से आगे भी होता है,

यह ख़्याल क्यों नहीं आता ज़ेहन में?

Synthol is a substance used by body builders as a temporary implant which is injected deeply into the muscle. The enlargement effects are immediate. Synthol is used to enlarge their volume (for example triceps, biceps, deltoids, muscles of the calf). The side effects of synthol are manifold and they can also cause a damage of nerves.

चाँद कहाँ रहते हो तुम?

पूछा जलते और ढलते सूरज ने।

तपन के बावजूद हम साज़िश करते रहते है

ताकि चाँद तुम दमक सको

मेरी प्रतिबिंबित रोशनी से।

मिलन ना लिखा हो हमारा।

पर ख्वाहिश है कि

चाँद तेरी दूधिया चाँदनी चमके

आफ़ताब….सूरज की रौशनी से।

Topic by yourquote

ज़िंदगी एक फ़िल्म है,

जिसका लेखक, डायरेक्टर सब है ऊपरवाला,

और मुख्य पात्र हैं हम।

कब क्या होगा, किसी को नहीं मालूम।

नए नए ट्विस्ट और टर्न के साथ

अग़ल दृश्य हमेशा है एक मिस्ट्री।

दृश्य है बदलते रहते।

बस नहीं रहता

किसी को इस

फ़िल्म के द एंड

या अंत का इंतज़ार।

Topic by YourQuote.

दुआओं में नाम ना होगा !

दूसरों को दर्द देने वाले को

मालूम होती है ख़ता अपनी।

क्यों जाया करना लफ़्ज इन पर?

इन्हें ना दे बद-दुआ, पर तय है

दुआओं में नाम ना होगा इनका।

जब कोई चोट और दर्द दे कर,

अपनी हीं तकलीफ़ का राग सुनाता है,

तब एक पुरानी कहावत याद आती है –

सूप बोले तो बोले, चलनी बोले जिसमें सौ छेद।

Psychological Fact – One may end up feeling exhausted, depressed, anxious, frustrated, and physically sick when Toxic people act as a victim.