आघात – प्रतिघात  

The true mark of maturity is when somebody hurts you and you try to understand their situation instead of trying to hurt them back.

Rate this:

कई तरह के लोगों को देखा है।

 कुछ तो खोए रहते हैं अपने आप में, कुछ अपने दर्द में।

पर बीमार अौर खतरनाक वे हैं जिन्हें मजा आता है,

दूसरों को बिन कारण दर्द और तकलीफ पहुंचाने में।

 सबसे सही संतुलित कौन  है?

ऐसे भी लोगों को देखा है,

जो चोट खा कर भी चोट नहीं करते।

आघात के बदले प्रतिघात नहीं करते।

 क्योंकि

वे पहले दूसरे की मनःस्थिति को समझने की कोशिश करते हैं।

 

 

Edgar Cayce

एडगर कैस ने आध्यात्मिक हीलिंग, पुनर्जन्म, स्वप्न, आफ्टरलाइव, और भविष्य की घटनाओं के रूप में विभिन्न विषयों पर काफी हद तक सही भविष्यवाणियाँ की अौर सवालों के जवाब दिए। केयस दावा करते थे कि ये जानकारियाँ उनका अवचेतन मन, नींद व सपने के दौरान देता है। एडगर के बारे में 300 से अधिक पुस्तकें लिखी गई हैं। उन्हें स्लीपिंग पैगंबर का उपनाम भी दिया। यह इस बात का प्रमाण है कि हमारा अवचेतन मन बेहद शक्तिशाली है।

Edgar Cayce was an American self-professed clairvoyant who answered questions on subjects as varied as healing, reincarnation, dreams, the afterlife, Atlantis, and future events while in a self-induced sleep state. Cayce claimed his subconscious mind would explore the dream realm where all subconscious minds are timelessly connected. He is the most documented psychic of all time, with more than 300 books written about him and his material. A nonprofit organization, the Association for Research and Enlightenment,  was founded to store and facilitate the study of the Cayce material. A biographer gave him the nickname The Sleeping Prophet.

courtesy – wikipedia

Happy World Laughter Day 2020

World Laughter Day is celebrated on the first Sunday of May every year to spread happiness in the whole world. This year the World Laughter Day will be observed on May 3, 2020.

A smile is a curve that sets everything straight.

एक मुस्कुराहट सब कुछ सही कर देती है.

 ~ Phyllis Diller फ़िलिस डिलर

 

वक़्त

समय कब कहता है – वह सही है?

शिद्दत से सही वक्त ढूँढना पङता है।

कई बार सही समय ढूँढने में

वक्त हीं फिसल जाता है हाथों से।