महाप्रलय !!

World’s largest iceberg breaks off from Antarctica !

Rate this:

महाप्रलय… जल मग्न धरा पर

बच गए अकेले मानव मनु।

है जानते यह कथा सब ।

गलते-टूटते विशालकाय हिम खंड

क्या वही इतिहास दोहराएँगे?

 आज ये आइसबर्ग खबरें हैं,

क्या कल हम सब खबरें बन जाएँगे?

 

 

 

क्या प्रत्येक पीढ़ी के साथ IQ बढ़ रहा है?

कुछ सिद्धांतों के अनुसार हैं प्रत्येक पीढ़ी के साथ मानव में बौद्धिकता/ IQ बढ़ रही है।

Rate this:

एबरडीन विश्वविद्यालय और स्कॉटिश स्वास्थ्य बोर्ड के शोधकर्ताओं, 1921 में और 1936 में पैदा हुए दो समूहों में 3.7-IQ का प्रसार पाया गया। स्टडी के अनुसार ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि प्रत्येक पीढ़ी को  पिछले एक की तुलना में  अच्छा जीवन  स्तर -चिकित्सा देखभाल, शिक्षा , काम/ नौकरी के अवसर,  मिलता है।

इसे फ्लिन इफेक्ट कहा गया है – जो बदलावों के असर को मानता है, जैसे – पोषण, स्वास्थ्य अौर  अन्य कारक जो IQ या  उच्च संज्ञानात्मक कार्य  को प्रभावित करता है।

 

The New IQ

दूसरी दीवाली

पहली बार देखा और सुना साल में दो बार दीवाली!

दुःख, दर्द में बजती ताली.

साफ़ होती गंगा, यमुना, सरस्वती और नादियाँ,

स्वच्छ आकाश, शुद्ध वायु,

दूर दिखतीं बर्फ़ से अच्छादित पर्वत चोटियाँ.

यह क़हर है निर्जीव मक्खन से कोरोना का,

या सबक़ है नाराज़ प्रकृति का?

देखें, यह सबक़ कितने दिन टिकता है नादान, स्वार्थी मानवों के बीच.

Mouse deer species not seen for nearly 30 years is found alive in Vietnam

प्रकृति हमेशा तालमेल बनाये रखने की कोशिश करती है.
बशर्ते, मानव उसे बर्बाद ना करे!

Rate this:

distinctly two-tone mouse deer that was feared lost to science has been captured on film foraging for food by camera traps set up in a Vietnamese forest. The pictures of the rabbit-sized animal, also known as the silver-backed chevrotain, are the first to be taken in the wild and come nearly 30 years after the last confirmed sighting.

 

News in detail

 

धर्म… मजहब…

धर्म…मजहब …वह महासागर है.

जो मानव मन में विकसित होता है।

अनंत रूपों में, विविधताएँ लिये।

पशु से प्रकृतिक पूजा……

व्यक्ति से अव्यक्ति,  आकार से निराकार रूप,

सूर्य, चांद, संगीत, नृत्य सभी को पूजते हैं।

मूर्त से अमूर्त, देवी देवताओं से सर्वोच्च प्रभु तक,

यह एक विस्तृत परंपरा है,

जो चिंतन है, जिज्ञासा  है

इसकी पहुँच स्थुल से सुक्ष्म आत्मिक मंडल तक है,

अंतर्मन तक है।