नीलकंठ

जंग लगी कुंजियों से

रिश्तों के सुप्त तालों को

खोलने की कोशिश में

ना जाने कितने नील गरल

निकलते हैं इस सागर से.

इन नील पड़े चोट के निशान

दिखती नही है दुनिया को,

शिव के नीलकंठ की तरह.

पर पीड़ा….दर्द बहुत देती हैं.

क्या आप जानते हैं ? मृत सागर मर रहा है !!

मृत सागर में कोई डूब नहीं सकता. दुनिया के महासागरों की तुलना में 8 से 9 गुना अधिक नमकीन है. 

Rate this:

मृत सागर समुद्र तल से 418 मीटर नीचे, दुनिया का सबसे निचला बिंदु कहा जाने वाला सागर है। इसे खारे पानी की सबसे निचली झील भी कहा जाता है। ६५ किलोमीटर लंबा और १८ किलोमीटर चौड़ा यह सागर अपने उच्च घनत्व के लिए जाना जाता है, जिससे तैराकों का डूबना असंभव होता है।

 मृत सागर में मुख्यत: जॉर्डन नदी और अन्य छोटी नदियाँ आकर गिरती हैं।, इसमें जीवाणुओं की ११ जातियाँ पाई जाती हैं। इसके अतिरिक्त मृत सागर में प्रचुर मात्रा में खनिज पाए जाते हैं। ये खनिज पदार्थ वातावरण के साथ मिल कर स्वास्थ्य के लिए लाभदायक वातावरण बनाते हैं। मृत सागर अपनी विलक्षणताओं के लिए कम से कम चौथी सदी से जाना जाता रहा है, जब विशेष नावों द्वारा इसकी सतह से शिलाजीत निकालकर मिस्रवासियों को बेचा जाता था। यह चीजों को सड़ने से बचाने, सुगंधित करने के अलावा अन्य दूसरे कार्यों के उपयोग में आता था। इसके अतिरिक्त मृत सागर के अंदर की गीली मिट्टी को क्लेयोपेट्रा की खूबसूरती के राज से भी जोड़ा जाता है। यहाँ तक कि अरस्तू ने भी इस सागर के भौतिक गुणों का जिक्र किया है। हाल के समय में इस जगह को हेल्थ रिज़ॉर्ट के तौर पर विकसित किया गया है।



 

Image courtesy- NASA, Informations- Wikipedia.

 

 

अकेलापन

अकेलापन कभी डराता है, कभी सहलाता है।

कभी ख्वाबों ख़यालों में ले जाता है….

तब

कवितायें- कहानियाँ जन्म लेने लगतीं हैं

नये वजूद- चरित्र, मित्र बन

गले में बाहेँ डाल

अपनी दुनिया में खींच ले जाते हैं !!!!!!

परिंदे

इन परिंदों की उङान देख,

चहचहाना सुन ,

रश्क होता है।

कितने आज़ाद हैं……

ना बंधन, ना फिक्र  कि …….

कौन सुनेगा ….क्या कहेगा…….

बस है खुली दुनिया अौर आजाद जिंदगी।

जिंदगी के रंग – 45

जिंदगी के रंग निराले

जो कभी खून करना चाहते थे, उन्हें खून देते देखा।

जो जान लेना चाहते थे, उन्हें जान देते देखा

जो लाखों लोगों का दिल धङकाते थे,

उन्हें एक-एक धङकन के लिये मोहताज़ होते देखा।

जिनके लिये लाखों दुआएँ मागीं , उन्हें बद्दुआ देते देखा।

दिल में जगह देनेवालों को दिल तोङते देखा।

इन सब के बाद भी जीने की जिद देखी।

    बङी अजीब पर नशीली अौ हसीन है यह दुनिया…………….

International Civil Aviation Day – 7 December, अंतर्राष्ट्रीय नागरिक विमानन दिवस 

In 1996 the United Nations General Assembly proclaimed that 7 December was to be the International Civil Aviation Day.

The day has been celebrated by the International Civil Aviation Organization since 7 December 1994, the 50th anniversary of the signing the Convention on International Civil Aviation.[1] The purpose of the day is to recognize the importance of aviation, especially international air travel, to the social and economic development of the world.

 7 दिसंबर अंतर्राष्ट्रीय नागरिक विमानन दिवस 

अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन ने 7 दिसंबर 1 99 4 से अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन पर कन्वेंशन पर हस्ताक्षर करने की 50 वीं वर्षगांठ का दिन मनाया।  इस  का उद्देश्य दुनिया के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए विमानन, विशेषकर अंतरराष्ट्रीय हवाई यात्रा के महत्व को पहचानना है।

 

Courtesy Google.

World Food India 2017, 3-5 November 2017, New Delhi

World Food India 2017

India,  a fastest growing economy and an attractive investment destinations in the world is organising   “World Food India 2017” in New Delhi from 03-05 November, 2017.   This is the largest international event in food processing organised by Government of India .

 

 

03-05 नवंबर, 2017  नई दिल्ली में “वर्ल्ड फूड इंडिया 2017” का आयोजन हो रहा है। भारत सरकार द्वारा आयोजित खाद्य प्रसंस्करण  का यह सबसे बड़ा अंतरराष्ट्रीय आयोजन है।  भारत  तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था और दुनिया में एक आकर्षक निवेश स्थल है। यह एक बङी उपलब्धी है।

Its website: http://www.worldfoodindia.in.