अनुगच्छतु प्रवाह !

जीवन प्रवाह में बहते-बहते आ गये यहाँ तक।

 माना,  बहते जाना जरुरी है। 

परिवर्तन जीवन का नियम है।

पर जब धार के विपरीत,

 कुछ गमगीन,  तीखा मोङ आ जाये,

  किनारों अौर चट्टानोँ से टकाराने  लगें, 

  जलप्रवाह, बहते आँसुअों से मटमैला हो चले,

   तब?

 तब भी,

जीवन प्रवाह का अनुसरण करो।

यही है जिंदगी।

प्रवाह के साथ बहते चलो।

 अनुगच्छतु प्रवाह ।।  

जिंदगी के रंग – 201

संगेमरमर से पूछो तराशे जाने का दर्द कैसा होता है.

सुंदर द्वार, चौखटों और झरोखों में बदल गई,

साधारण लकड़ी से पूछो काटे जाने और नक़्क़ाशी का दर्द.

सुंदर-खरे गहनों से पूछो तपन क्या है?

चंदन से पूछो पत्थर पर रगड़े-घिसे जाने की कसक,

कुन्दन से पूछो आग की तपिश और जलन कैसी होती है.

हिना से पूछो पिसे जाने का दर्द.

कठोर  पत्थरों से बनी, सांचे में ढली मंदिर की मूर्तियां से पूछो चोट क्या है.

तब समझ आएगा,

तप कर, चोट खा कर हीं निखरे हैं ये सब!

हर चोट जीना सिखाती है हमें.

अौर बार-बार ज़िंदगी परखती है हमें।

 

प्रतिबिंब

ज़िंदगी के अनुभव, दुःख-सुख,

पीड़ा, ख़ुशियाँ व्यर्थ नहीं जातीं हैं.

देखा है हमने.

हाथ के क़लम से कुछ ना भी लिखना हो सफ़ेद काग़ज़ पर.

तब भी,

कभी कभी अनमने हो यूँ हीं पन्ने पर क़लम घसीटते,

बेआकार, बेमतलब सी लकीरें बदल जाती हैं

मन के अंदर से बह निकली स्याही की बूँदों में,

भाव अलंकारों से जड़ी कविता बन.

जिसमें अपना हीं प्रतिबिंब,

अपनी हीं परछाईं झिलमिलाती है.