ख़्वाब में थोड़ी ज़िंदगी

 

गर नींद  आए  तब सो लेते हैं हम।

ख़्वाब में थोड़ी ज़िंदगी जी लेते  हैं हम।

ज़िंदगी के रंग – 210

हाँथों  में खोजते रहे

अरमानों अौ ख़्वाबों की लकीरों को,

और वे लकीरें उभर आईं पेशानी….माथे पर,

अनुभव की सलवटें बन कर।

जिंदगी के रंग – 208

दुनिया में होङ लगी है आगे जाने की…

किसी भी तरह सबसे आगे जाने की। 

कोई ना कोई तो आगे होगा हीं।  

हम आज जहाँ हैं,

वहाँ पहले कोई अौर होगा….. उससे भी पहले कोई अौर।

ज़िंदगी सीधी नहीं एक सर्कल में चलती है। 

जैसे यह दुनिया गोल है।

ज़िंदगी का यह अरमान, ख़्वाब  –

सबसे आगे रहने का, सबसे आगे बढ़ने का……

क्या इस होड़ से अच्छा नहीं  है –

सबसे अच्छा करने का।

How to Beat the Competition in Sunglasses Business - Gotshades?

 

 

 

 

 

Image courtesy- google.

यादों के चंदन

 चंदन के साथ रखे थे कुछ

यादें अौ

ख़्वाब !

कुछ ख़्वाब

पूरे हुए,

कुछ अधूरे हैं।

पर संदल की  ख़ुशबू  से भर गये  हैं।

आँखें ख़्वाब, औ सपने बुनतीं हैं….

आँखें ख़्वाब, औ सपने बुनतीं हैं,

हम सब बुनते रहते हैं,

ख़ुशियों भरी ज़िंदगी के अरमान।

हमारी तरह हीं बुनकर पंछी तिनके बुन आशियाना बना,

अपना शहर बसा लेता है.

बहती बयार और समय इन्हें बिखेर देते हैं,

यह  बताने के लिये कि… 

 नश्वर है जीवन यह।

मुसाफिर की तरह चलो। 

यहाँ सिर्फ रह जाते हैं शब्द अौर विचार। 

वे कभी मृत नहीं होते।

जैसे एक बुनकर – कबीर के बुने जीवन के अनश्वर गूढ़ संदेश। 

 

 

बुनकर पंछी- Weaver Bird.

ख़्वाब

Birth is scented with death. ~~Bhartrihari

Rate this:

ख़्वाहिशों से बुने थे कुछ ख़्वाब

एक झटके में सारे ताने बाने बिखर गए.

हम समेटने में लगे हैं …….

यह जानते हुए कि जाना है एक दिन सबको .

(Bhartṛhari was a great Sanskrit poet, writer and a king who renounced the world. भार्तृहरि एक महान राजा व संस्कृत कवि थे, जिन्हों ने अपनी  पत्नी के धोखे से आहत हो कर सन्यास ले लिया था।)