सीमाएँ

बड़ी मुश्किलों से जाना अपने-आप को,

पहचाना अपने आप को,

अपनी रूह को।

कुछ नादान कहतें हैं-

बडे अच्छे से पहचानते हैं,

जानते तुम्हें हैं।

ये ज़िंदगी में वेवजह दखल देतें हैं।

दूसरों की सीमाएँ तोड़ने वाले से दूरी है ज़रूरी।

Positive Psychology – In real life mute

unwanted people by setting clear

boundaries. Boundaries define us.

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s