इश्क़ अपने आप से

खुल कर साँसें लो। आज़ाद छोड़ दो अपने आप को।

तुम, तुम रहो। किसी के बनाए साँचें में बेमन से ना ढलो।

जैसे हो वैसे हीं स्वीकार करो अपने आप को।

इश्क़ करना सीखो अपने आप से।

जीतने की कोशिश करो,

पर मुस्कुराओ अगर हार भी जाते हो।

क्योंकि हम सब अपनी अपूर्णता,

कमियों और खामियों के साथ परिपूर्ण हैं।

वही अनूठापन है, वही हमारी पहचान है।

Psychological Fact – Self-love means having a high regard for your own well-being and happiness. Self-love means taking care of your own needs and not sacrificing your well-being to please others.

8 thoughts on “इश्क़ अपने आप से

  1. Beautiful, gorgeous, absolutely wonderful poem and what an amazing presentation! Every poem of yours is fully laced with a deep insight into the reality of life and thought provoking besides being heart touching. ♥️♥️♥️♥️♥️. Keep up the good work.

    Liked by 1 person

  2. सुंदर जीवन जीने की कला का गूढ़ रहस्य आपकी लेखनी ने बखूबी कहा है 👌🏼👌🏼
    आपकी रचनाएँ सदा ही
    प्रेरक व जीवन की गहरी अभिव्यक्ति से युक्त उपयोगी व सार्थक होती है 🙏🏼😊

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s