2 thoughts on “बसंती बयार

  1. वाक़ई ज़िन्दगी के सफ़र में ख़ुशनसीबी से कुछ ऐसे लोग मिल ही जाते हैं जिनसे मिलकर लगता है कि जैसे ज़िन्दगी की आब-ओ-हवा में ख़ुशबू भर गई, ख़ूबसूरत रंग बिखर गए, अचानक ही फ़िज़ा बदल गई और सब कुछ अच्छा लगने लगा।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s