ज़ख़्म भरने की कोशिश

कोशिशें नाक़ाम होगी, किसी की आँखें में भरे अश्क़

औ रूह में भरे दर्द के समंदर को नापने की।

मैं इसकी नाकाम कोशिश हूँ और मेरी गहराईयाँ

गवाह है इसकी, हिलोरे लेते समंदर ने कहा।

बस मलहम लगाने की कोशिशें काम आती है।

इसलिए मैं अपनी लहरों से ज़ख़्म भरने की

कोशिश में लगा रहता हूँ धरा की।

Positive Psychology-

If someone is in pain. Don’t dig deeper. Let it heal.
Instead of showing sympathy, be empathetic. Put yourself in their shoes as empathy is ability to identify with a person.

12 thoughts on “ज़ख़्म भरने की कोशिश

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s