जंग

जिन्हें जंग चाहिए, उन्हें हासिल होता है,

विनाश देख ख़ुशियाँ और अपने अहं की शांति ।

औरों को हासिल होता है दर्द और रक्तपात।

हम सबों को एक युद्ध…. लङाई… जंग लड़नी होगी ,

सभी लङाईयों को खत्म करने के लिये।

शांती लाने के लिये।

This topic is given by YourQuote.

11 thoughts on “जंग

  1. Perfect. Well said Rekhaji. War is such a destructive futile thing arising due to ego clash and thirst for power. Such a shame that we need to wage a war to reinforce peace. Very beautiful lines.

    Liked by 1 person

    1. खोजने से रास्ते ज़रूर निकलते हैं। लेकिन राजनीतिक परिप्रेक्ष्य में power game important होता है।
      जो युद्ध का फ़ैसला / order देते हैं, वे भी अगर युद्ध भूमि में लड़ाइयाँ लड़ने जायें। तब बात समझ आती है।
      वरना अपने सिपाहियों और दूसरे देश की निरीह जनता ही शिकार बनती है। राज़ करने और order देने वाले सुरक्षित बैठे रहते हैं।

      Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s