मैं या तुम

मुझे हमेशा लगा

– यह तो मैं हूँ।

गौर किया,

तब पाया।

यह तो तुम हो,

मुझ में समाए।

4 thoughts on “मैं या तुम

  1. यह तो शादी के पहले होता है. शादी के बाद तो तू तू मैं मैं होता है. है न सही बात. प्यार का यह रंग भी होता है.

    Liked by 1 person

    1. 😊 बिलकुल ऐसा होता है। यह तो देखने का अपना अपना नज़रिया है।
      ये उद्गार सामान्य रिश्तों के लिए मानिए या आध्यात्मिक प्रेम के लिए।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s