दिल की बातें

किसी और की बातों

और राय को बोझ

ना बनने दो।

सुन सब की लो।

पर सुनो अपने दिल की।

8 thoughts on “दिल की बातें

  1. हम शब्दों में हैं
    अन्य लोगों की प्रकृति से बंधा हुआ

    आत्मा अकेला
    एक सपने में भेजता है
    बेहतर के लिए
    सलाह

    Liked by 1 person

  2. जी हाँ रेखा जी, यही मुनासिब है। और जो अपनी राय हम पर थोपें, मानने का दबाव डालें; ऐसों से दूरी ही भली।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s