शुभ नव वर्ष! Happy new year!

कई सदियाँ, कई मौसम

आए और गये।

इबादतों में तलाश,

इबारतों में तलाश होती रही।

ख़ुशियों की… मन की शांति

और अमन की।

सब मिलता है,

ग़र ऊपर वाले की

क़ुदरत पर हो भरोसा।

ग़र गिले-शिकवे छोड़,

तलाश खुद की हो।

ग़र तराश खुद को लें।

नव वर्ष मंगलमय हो!

Happy New Year!!

58 thoughts on “शुभ नव वर्ष! Happy new year!

  1. शुभकामनाएं
    नए वर्ष के लिए

    वो आत्मा
    शामिल हैं
    हर चीज़
    मृत्यु और जीवन

    उनके स्रोत से
    सब कुछ आता है
    वो ख़ुशी
    दर्द
    और दुख

    सपना
    वो आत्मा
    हमें बताओ
    हमें क्या करना चाहिए
    बेहतर के लिए
    दिन पर

    हमें एक दूसरे को खोजने की जरूरत नहीं है
    हम जीवन के रास्ते पर हैं
    एक बच्चे के रूप में
    वयस्क के रूप में
    बुढ़ापे में
    भीतर की दुनिया में
    बाहरी दुनिया में
    हर सांस में
    हमारे यहाँ और अभी में
    हम हे

    Liked by 1 person

  2. Sahi, Hai. Kudrat, Samjah aajaye, Toh vishwas karna nahin padega. Hojaega. Dhak gayi hai. Kudrat inshanni riwazo se….Inko Jitna alag achha hai…Pata nhn par kuch toh hai mere shabdon mein, teri baaton mein…lagta hai samjh aa gaya …par…aaata nhn…

    Liked by 1 person

    1. Shukriya HB!
      Kudarat ka apna niyam hai. Ham todate rahte hai aur सज़ा मिलती रहती है। लेकिन हम सब स्वार्थी हैं। इसलिए सुधरते नहीं।
      क्या समझ नहीं आया? क़ुदरत की बातें? या कविता की बातें?
      अपने विचार बताने के लिए शुक्रिया। 😊

      Like

  3. Nature and its simple laws are being indicated in poem. We pretend that have understood but actually at a superficial level.
    But I believe with your grace and divine company life can be understood slowly like a walk-on in serene nature, gazing moonlight, savoring morning tea in solitude. Sitting at the bank of the river observing its flow, feeling the cool breeze on your skin. Moderate rain in monsoon, dusky clouds in the evening in summer.
    Writing a slow and beautiful comment and sound of keyboard and touch of fingers those gives meaning to thoughts.

    Liked by 1 person

      1. Is it ? Mujhe laga hote hain. Aap kehti hain toh maan lete hai. Shayad kamane mein, pait ki aag bujhane mein, Khud nhn express nhn karpate hote toh honge?

        Liked by 1 person

      2. Waah! Kya baat hai. शब्दों के तराशना होगा, मूरत बनाने के लिए। कविता जैसा लगा । समय ही समय लो। 😊

        Liked by 1 person

      3. Heere ki kadr johri kar hi leta hai, sabhi kaa ye haal hai. Jab duniyan ho waise nhn samjha paate toh shabdon ka sahara lete hain…

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s