सोना या कुंदन

कुंदन

ज़िंदगी के इम्तहानों में

तप कर सोना बने,

कुंदन हुए या

हुए ख़ाक।

यह तो मालूम नहीं।

पर अब महफ़िलें

उलझतीं नहीं।

बेकार की बातें

रुलातीं नहीं।

ना अपनी ख़ुशियाँ

कहीं और ढूँढते हैं ,

ना देते है किसी

को सफ़ाई ।

हल्की सी

मुस्कान के साथ,

अपनी ख़ुशियों पर

यक़ीं करना सीख रहें हैं।

8 thoughts on “सोना या कुंदन

  1. रत्न शामिल हैं
    रेत करने की जरूरत है

    जीवन की परीक्षाओं के माध्यम से
    पश्चाताप और प्रायश्चित के माध्यम से मनुष्य

    क्या पत्थर कभी सोने में जड़ा जाएगा?
    एक मानव
    अपने जीवन का कार्य पूरा कर सकता है

    हीरा फ़ाइल ले लो
    नहीं
    ताकि पत्थर
    बिक्री योग्य
    बनाना और पेश करना

    नम्रता से रहो
    अपने दैनिक कार्य में
    और सपने की रक्षा करें
    कि आप
    वो आत्मा
    जैसे किसी खजाने ने हर रात दिया हो

    Liked by 3 people

      1. Sure!
        You’ll find the translator on the right side of the post.
        Let me try to explain this poem.
        It says – heating makes gold pure. May be life’s lesson will make us like gold. But I can tell you one thing for sure. Life lessons has made me calm and matured.

        Like

      2. I saw the translator, usually theirs a option at the top of the post to click on, but not with yours.
        I tried the translator option, but wasn’t sure what language your work is in. All this is new concepts for me, but I’ll work at it again when I’m on my computer.

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s