अंदर की रौशनी !!!

मान कर चलो कि ज़िंदगी में अच्छा…

सबसे अच्छा समय

अभी आना बाकी है।

अपने अंदर की रौशनी

कभी मरने न दो।

तुम्हारा अपना सर्वश्रेष्ठ

करना ही काफी है।

2 thoughts on “अंदर की रौशनी !!!

  1. सही कहा आपने। नासिर काज़मी साहब की लिखी हुई और ग़ुलाम अली साहब की गाई हुई मशहूर ग़ज़ल – ‘दिल में एक लहर-सी उठी है अभी’ का शेर है – ‘वक़्त अच्छा भी आएगा नासिर, ग़म न कर, ज़िन्दगी पड़ी है अभी’ ।

    Liked by 1 person

    1. शुक्रिया जितेंद्र जी। आपके शेरो शायरी की जानकारी अद्भुत है । ये ख़ूबसूरत पंक्तियाँ हौसला बढ़ाने वालीं हैं।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s