कन्यादान महादान – कई प्रश्न

कन्यादान के समय कहा जाने वाला मंत्र –
अद्येति………नामाहं………नाम्नीम् इमां कन्यां/भगिनीं सुस्नातां यथाशक्ति अलंकृतां, गन्धादि – अचिर्तां, वस्रयुगच्छन्नां, प्रजापति दैवत्यां, शतगुणीकृत, ज्योतिष्टोम-अतिरात्र-शतफल-प्राप्तिकामोऽहं ……… नाम्ने, विष्णुरूपिणे वराय, भरण-पोषण-आच्छादन-पालनादीनां, स्वकीय उत्तरदायित्व-भारम्, अखिलं अद्य तव पत्नीत्वेन, तुभ्यं अहं सम्प्रददे। वर उन्हें स्वीकार करते हुए कहें- ॐ स्वस्ति।

Rate this:

अद्येति नामाहं नाम्नीम् इमां कन्यां……तुभ्यं अहं सम्प्रददे।।

कन्या के हाथ वर के हाथों में सौंपनें के लिये,

ना जाने क्यों बनी यह परम्परा?

कन्या को दान क्यों करें?

जन्म… पालन-पोषण कर कन्या किसी और को क्यों दें ?

विवाह के बाद अपनी हीं क्यों ना रहे?

कन्या के कुल गोत्र अब पितृ परम्परा से नहीं, पति परम्परा से चले? 

अगर पिता ना रहें ता माँ का कन्या दान का हक भी चला जाता है।

गर यह महादान है, तब मददगार

 ता-उम्र अपने एहसान तले क्यों हैं दबाते?

है किसी के पास इनका सही, अर्थपूर्ण व तार्किक जवाब?

जिंदगी के आईने में कई बेहद अपनों के कटु व्यवहार

की परछाईं ने बाध्य कर दिया प्रश्नों  के लिये?

वरना तो बने बनाये स्टीरियोटाइप जिंदगी

 जीते हीं रहते हैं हम सब।

Youth Broke Marriage After Engagement - सगाई के बाद युवक ने व्हाट्सअप पर  शादी तोडऩे का भेजा मैसेज | Patrika News

 

11 thoughts on “कन्यादान महादान – कई प्रश्न

  1. “पवित्र मंत्र एक आत्मा ”

    मी सर्व जीवनाची आई आहे

    मी सर्व देवांचा जीवनदाता आहे

    मी गाभा आहे
    प्रत्येक मानवाचा

    मी ठरवतो
    प्रत्येक त्याच्या प्राक्तन
    आणि त्याचे लिंग

    मी लग्नासाठी उमेदवार आहे
    सर्व महिलांसाठी

    मी पुरुषांची वधू आहे

    मी बोलतो
    सर्व सजीवांना
    लोक
    तिच्या स्वप्नात

    Liked by 1 person

    1. मुझे यह। नहीं समझ आया क्योंकि यह हिंदी नहीं मराठी है. यह मंत्र हमारे यहाँ विवाह के समय बोला जाता है।

      Like

      1. पवित्र मंत्र एक आत्मा

        मैं सभी जीवन की माँ हूँ

        मैं सभी देवताओं का जीवनदाता हूँ

        मैं कोर हूँ
        हर इंसान का

        मैं फैसला करता हूँ
        प्रत्येक उसकी नियति
        और उसका लिंग

        मैं शादी के लिए एक उम्मीदवार हूँ
        सभी महिलाओं के लिए

        मैं पुरुषों की दुल्हन हूँ

        मैं बोलता हूँ
        सभी जीवों को
        लोग
        उसके सपने में

        Liked by 1 person

  2. गर यह महादान है, तब मददगार
     ता-उम्र अपने एहसान तले क्यों हैं दबाते?

    शायद ही इसका जवाब होगा।
    वैसे महादान ही है कन्यादान,
    मगर पात्र को इसकी कीमत अभी तक पता ना चला।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s