अपने आप

 कैसे तराशें अपने आप को ?

यह  प्रश्न चिन्ह सा डोलता है मन में.

यह देख , चाँद  थोङ झुका अौर बोला। 

देखो, मैं तो सनातन काल से यही कर रहा हूँ।

हर दिन,  अपने आप को तराशता रहता हूँ।

जब-जब  अपने  में  कमी नज़र आती है।

अपने को  पूरा करने की कोशिश में लग जाता हूँ।

11 thoughts on “अपने आप

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s