राह के पत्थर

राह के पत्थरों के ठोकरों ने सिखाया,

राह-ए-ज़िंदगी पर चलना।

बुतों का इबादत किया हर दम।

फिर क्यों  फेंक दें इन पाषणों को? ,

सबक तो इन्हों ने  भी दिये कई  बार।

 

 

20 thoughts on “राह के पत्थर

  1. बहुत ही अच्छी बात कही है रेखा जी आपने । इसे पढ़कर मुझे एक बरसों पुरानी बहुत छोटी-सी नज़्म याद हो आई (रचयित्री का नाम था- शशि गंदोत्रा) :

    रास्ते के पत्थर से पूछा मैंने – ‘तेरी औक़ात क्या है ?’
    कहा मुसकराकर उसने – ‘तुमसे बेहतर
    जाने वालों की निगाह कुछ पल तो ठहरती है मुझ पर’

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s