ज़िंदगी बुनती रहती है सपने !!

ज़िंदगी बुनती रहती है सपने

धागे के ताने-बाने से,

 रेशम सी बनाती ।

तभी,जब सुहानी बयार 

रुख बदल आँधी बन जाती है.

रेशम के ताने बाने तार-तार कर जाती है।

यादें हलकी हो भी जायें।

दर्द कहाँ कम होता है?

 

5 thoughts on “ज़िंदगी बुनती रहती है सपने !!

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s