तुमने हमारे साये में हमें हीं काट डाला!

दरख़्तों…पेड़ों को कटाते,

पसीने से तर-ब-तर पेशानी और चेहरा पोछते,

छाया खोजती निगाहे ऊपर उठीं,

था खुला आकाश और चिलचिलाती धूप !

कटे कराहते दरख़्तों और डालियों ने कहा,

अब तपिश से बचाने को हमारा साया….छाया नहीं.

करो इंतज़ार धूप ढलने का.

तुमने हमारे साये में हमें हीं काट डाला!

 

image- Aneesh

8 thoughts on “तुमने हमारे साये में हमें हीं काट डाला!

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s