6 thoughts on “ऐसा भी होता है क्या?

  1. जब प्रेम रूह में बसे तो ऐसा भी होता है। आपके शब्दों ने कुछ लिखने को प्रोत्साहित कर दिया 👍🙏🙏🤗very nice

    Liked by 1 person

    1. आभार साक्षी.
      तुमने सही समझा, ये पंक्तियाँ वास्तविक जीवन से ….अंतरात्मा से निकली हुई हैं.
      इनसे प्रभावित हो कर
      क्या लिखा तुमने, ज़रूर बताना.

      Liked by 1 person

  2. बड़ी भावभीनी बात है यह । फ़िल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ में सुरेश वाडकर जी का गाया हुआ गीत याद आ गया :

    मुझको देखोगे जहाँ तक
    मुझको पाओगे वहाँ तक
    रास्तों से कारवां तक
    इस ज़मीं से आसमां तक
    मैं ही मैं हूँ, मैं ही मैं हूँ
    दूसरा कोई नहीं

    Liked by 2 people

    1. बहुत सुंदर गीत है जितेंद्र जी. आजकल मेरी दोनों बेटियाँ अक्सर ऐसा कहतीं रहतीं हैं.
      इसलिए मैंने इन्हें शब्दों में ढाल दिया.

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s