आघात – प्रतिघात  

The true mark of maturity is when somebody hurts you and you try to understand their situation instead of trying to hurt them back.

Rate this:

कई तरह के लोगों को देखा है।

 कुछ तो खोए रहते हैं अपने आप में, कुछ अपने दर्द में।

पर बीमार अौर खतरनाक वे हैं जिन्हें मजा आता है,

दूसरों को बिन कारण दर्द और तकलीफ पहुंचाने में।

 सबसे सही संतुलित कौन  है?

ऐसे भी लोगों को देखा है,

जो चोट खा कर भी चोट नहीं करते।

आघात के बदले प्रतिघात नहीं करते।

 क्योंकि

वे पहले दूसरे की मनःस्थिति को समझने की कोशिश करते हैं।

 

 

27 thoughts on “आघात – प्रतिघात  

    1. तुम्हारी बातें बड़ी सुलझी और सही हैं. हाँ मानवता सम्भाले की ज़िम्मेदारी सिर्फ़ कुछ लोगों के कंधे पर रह गई है.
      बहुत आभार तुम्हारा !

      Liked by 1 person

      1. बहुत धन्यवाद !! तुम्हें ऐसा लगता है क्योंकि तुम Genuine पाठक हो. मेरे ख्याल में ज़िंदगी बहुत से सबक़ देतीं हैं. जब उन सच्ची बातों को कविता/ लेख/ शब्दों में ढाला जाय तब वे वास्तविकता का आभास देतीं हैं.

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s