दर-ओ-दीवार

दूरियाँ- नज़दीकियाँ तो दिलों के बीच की बातें हैं।

 दीवारों पर इल्ज़ाम क्यों? 

जो खुद चल नहीं सकतीं वे दूसरों की दूरियाँ क्या बढ़ाएँगीं?

अक्सर  दीवारें रोक लेतीं हैं ग़म अौर राज़ सारे अपने तक,

अौर समेटे रहतीं हैं इन्हें  दिलों में अपने।

किलों, महलों, हवेलियों, मकानों, घरों से पूछो……

इनके दिलों में छुपे  हैं कितने राज़, कितनी कहानियाँ।

अगर बोल सकतीं दर-ओ-दीवारें…….

बतातीं दीवार-ए-ज़ुबान से,  सीलन नहीं आँसू हैं ये उसके।

वह तो गनिमत है कि….. 

दीवारों के सिर्फ कान होते हैं ज़ुबान नहीं।

27 thoughts on “दर-ओ-दीवार

    1. Sukriya,
      अक्सर लोग खुद हीं दूरियाँ बढ़ा कर कहते हैं – दीवारों ने दूरियाँ बढ़ा दीं हैं।
      sannato me to sachmuch bada shor hota hai. Dhyan se suno tab baat sunaai bhi deti hai.
      🙂

      Liked by 3 people

  1. Dear Rekha, I have translated your Hindi text again with google translation because I am interested in what you write.

    “Ask about fortresses, palaces, houses …

    There are so many secrets and how many stories are hidden in their hearts.”

    So true! Houses are full of stories, happy ones and sad ones, too. If houses could talk, they might tell us long stories. Sometimes I think I can feel the history of a house, especially of an old house that has lived through several centuries.

    Liked by 3 people

  2. दूरियाँ दिलों के बीच होती हैं लेकिन दीवारें घरों के बीच पडती हैं। दीवारें बोलती भी हैं और सुनती भी हैं। दीवारें दिलों के टूटने की दास्ताँ कहती हैं और टूटने की आवाज़ सुनती हैं।

    Liked by 2 people

    1. बिलकुल सही, घरों के बीच दीवारें हम ङालते हैं अौर बदनाम दीवारें होतीं हैं। आभार अपने विचार शेयर करने के लिये।

      Liked by 1 person

      1. आभार, अच्छा लिखना तो अलोचकों अौर सुधि
        पाठक के सौजन्य से हीं संभव है।

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s