10 thoughts on “रश्क

  1. Great lines… Bahut khoob 💯👍 It reminded me the famous lines of Ghalib:
    सारी उम्र ग़ालिब बस यही गलती करता रहा।
    धूल चेहरे पर थी और आइना साफ करता रहा।

    Liked by 1 person

    1. Thank you. ग़ालिब की लाजवाब पंक्तियों के लिए भी आभार.
      दरसल कुछ लोगों में दूसरों के लिए भावनाए या संवेदना नहीं दिखतीं हैं. तब लगता है – काश उन्हें कोई यह सच्चाई / आईना दिखाए.

      Like

      1. सही कहा आपने। सारी समस्या का समाधान अपने अंदर है और सारे सवालों के जवाब भी। बस जरूरत है तो अपने अंदर झांकने की।

        Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s