वक़्त

वक़्त-वक़्त की बात है, कभी छुट्टियों की कमी की शिकायत थी, आज छुट्टियाँ है तब काम याद आ रहा है. कभी शोर-कोलाहल कानों को चुभता था. अब शांति हीं शांति है तब पुराने दिन याद आ रहें हैं. यह नाराज़गी और बेचैनी क्यों? यह वक़्त भी गुज़र जाएगा.

Image courtesy- Aneesh

5 thoughts on “वक़्त

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s