सुकून

खोजा हर जगह….सुकून है कहाँ? कुछ पाने में या कुछ खोने में ? यादों में या भूलने में? तलाश में या पाने में? कोलाहल में या ख़ामोशी में? शायद चिता के राख में या दो गज़ ज़मी के नीचे? वरना क्यों रोज़- रोज़ लोग दुनिया छोड़ जाते हैं?

One thought on “सुकून

Leave a Reply to Smartyboy01.online Cancel reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s