ज़िंदगी के रंग – 191

हमसे ना उम्मीद रखो सहारे की.

ख़ुद हीं लड़ रहे हैं नाउम्मीदी से.

वायदा है जिस दिन निकल आए,

पार कर लिया दरिया-ए-नाउम्मीद को.

सबसे बड़े मददगार बनेंगे.

 

12 thoughts on “ज़िंदगी के रंग – 191

  1. Beautiful but a bit gloomy. I suggest :
    सहारे की पतवारें औरों के लिए गढ़िये  
    अपनी नाउम्मीदी छोड़ आगे बढ़िये
    वायदा है जब आप औरों के मददगार बनेंगे
    बड़ी सहजता से  दरिया-ए-नाउम्मीद तरंगे !

    Liked by 3 people

    1. Thanks Ravindra ji.
      हमेशा की तरह, आपने मुझे और मेरी पंक्तियों को सकारात्मकता की राह दिखलायी है. बेहद सुंदर पंक्तियाँ रची है आपने. बहुत शुक्रिया आपका.

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s