शिकायत

गिला है कि हम नहीं मिला करते.

अपने लिए जीने से शिकायत क्यों ?

अँधेरे से निकल उजाले में जाने

की कोशिश से नाराज़गी क्यों ?

मंदिर…. मस्जिद में भटकने से ज़्यादा

अगर क़रार, सुकून है,

अपने आप से मिलने में

अपने अंदर, अंतर्मन की यात्रा में?

तो शिकायत क्यों ?

4 thoughts on “शिकायत

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s