10 thoughts on “हाल

  1. Duniya ki damak ‘gar dekhoge
    Chahoge log niharein tumhe
    ‘Gar auron ko dikhlaoge
    Tum kitne vishal, ‘au kaisi shaan
    Tum upar rahna chahoge
    Auron ko kuchalna chahoge
    To sagar ki satah ke jaise tum
    Sar patkoge, chillaoge,
    Dhoondhoge do pal chaain kahin,
    Par antarman mein jhaank rahi
    Apne se neechi lahron ko tum
    Na dekh sakoge, na samjhoge,
    Vo bhi is sagar ka hissa hain
    Vo avichal si, gahre manthan mein,
    Hai shant sada, ojhal jag se
    Jo sagar mein hain, sagar hetu,
    Auron ki khatir sajee nahin,
    Auron ko dikhti nahin kabhi,
    Jo khud se apna shodhan karti,
    Khoobi, kamiyan; sab kuch rakhti,
    Jahan moti sang vish-jeev palein
    Vo sagar ki gahrai mein
    Hain lahrein shant, sukoon sadaa..

    Liked by 1 person

    1. बहुत धन्यवाद मनीष जी.
      आपने बड़े सुंदर शब्दों में अनमोल बात कह दी.
      कविता के उत्तर में ख़ूबसूरत कविता . आभार.

      Like

  2. बहुत ही सही कहा है आपने ! 
    आगे की बात यह है “सागर चट्टानों और किनारे सुकून ढूंढ रहा है, अपने भीतर नहीं जाता , जहाँ सिवा सुकून कुछ और है ही नहीं !  वही भूल हम भी कर रहे हैं, इसीलिये सागर जैसा ही  हमारा भी हाल है |

    Liked by 2 people

    1. शुक्रिया.
      आपने बड़ी महत्वपूर्ण बात कही. अपने मन और अंतरात्मा की गहराइयों में झाँकने की ज़रूरत है.

      Liked by 1 person

  3. बहुत ही ख़ूबसूर्त पंक्तियाँ।मृगमरीचिका हो गई है सबको और हमें भी।
    जानकर भी अनजान हैं
    वो यहीं है फिर भी ढूंढने में परेशान हैं।

    Liked by 2 people

    1. जिंदगी ऐसी ही है। अपने मन की गहराईयों के बदले हम सब किनारे पर शांति खोजते हैं, सागर की तरह।

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s