टिमटिमाते सितारे

अगर दुनिया तोड़े,

तब भी पैरों को मज़बूती से

जमा कर, मुस्कुरा कर

शान से उठा लो सर अपना.

अपने को गिरते हुए क्या दिखाना?

गिरते सितारों का

कोई मोल नहीं होता.

दमकते, टिमटिमाते सितारे

देखने के लिए सब सर उठाते हैं…..

14 thoughts on “टिमटिमाते सितारे

  1. Sorry to differ but kya sirf isliye sar utha lein ki koi aur hamare mol ko nahin aank raha hai..
    Agar dukh hai to dukhi hone mein kya harz hai..
    Anyway, Rahimdasji also says similar to what you have expressed :-
    रहिमन निज मन की बिथा, मन ही राखो गोय. सुनी इठलैहैं लोग सब, बांटी न लेंहैं कोय.

    With regards, as always,
    Manish

    Liked by 3 people

    1. Please don’t be sorry. I appreciate your point of view.
      दुःख तो मनोभाव है. वह तो स्वभाविक तौर पर हर कोई महसूस करता है.
      पर अपनी कमज़ोरी को दिखने से क्या लाभ ? इससे तो गिरने के बाद हिम्मत से, मुस्कुरा कर उठ जाना अच्छा है.

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s