ज़िंदगी के रंग -189

ना जाने कैसी राहों से

गुज़र रही है ज़िंदगी

अनमने चलते रहे ….

कई बार बताए गए रास्ते

पर चलते चलते ग़लत जगह

पहुँच जाती हैं ज़िंदगी .

तब लगता है –

काश दिल की आवाज़ सुनी होती ,

शायद सही मंज़िल मिल जाती.

अभी तो लापता हैं…खो गए हैं,

भटके हुए राहों पर …….

10 thoughts on “ज़िंदगी के रंग -189

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s