ज़िंदगी के रंग – 188

दिल से अपने आप निकली हुई बातें,

कब टपकते दर्द के साथ मिल कर,

रेख़ताग़ज़ल बन जातीं है, मालूम नहीं……

अर्थ –

रेख़ताअरबी फ़ारसी मिश्रित हिंदी गाना, ग़ज़ल

12 thoughts on “ज़िंदगी के रंग – 188

  1. दर्द भरे दिल से शब्दों का सैलाब आता है और काव्य बन जाती है। बहुत खूब।👌👌

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s