ज़िन्दगी के रंग -177

हथेलियों पर रखे थे

चंद नाज़ुक यादों को

सहेज कर.

हवा के झोंके के साथ

रेत सी कहीं सरक गई

ज्योंहीं कोशिश किया

मुट्ठी बंद करने की .

Logo courtesy- Kumar Param, blogger.

12 thoughts on “ज़िन्दगी के रंग -177

  1. कमाल का पोस्ट लिखीं हैं मैम आपने। इसे मैं अपने whatsapp और facebook पर पोस्ट करना चाहता है।
    इन पंक्तियों में बहुत बातें छुपी है।👍

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s