14 thoughts on “ख़्वाबों का धुआँ

  1. क्या कमाल की कल्पना शक्ति है आपकी। बिल्कुल शानदार👍 अगर आपसे कभी मुलाकात हो, तो यह सवाल मैं जरूर करुंगा।
    “आप क्या खाते हैं जो इतना बेहतर सोच पाते हैं?” ☺️

    Liked by 1 person

    1. इतनी तारीफ़ के लिए शुक्रिया कुमार . अगर मुलाक़ात क्यों ? पुणे आओ तो ज़रूर मिलो. 😊
      तुम बिना मिले भी सवाल पूछ सकते हो.
      कुछ बातें / सोंच जीवन के अनुभव सिखाते हैं और कुछ विचार पढ़ते रहने से आते हैं.

      Liked by 1 person

  2. शालीनता भरी जवाबों के लिए शुक्रिया मैम। अपने शहर से दूर जाने की तो पूरी ख्वाहिश है पर यह फिलहाल मुमकिन नहीं है।

    Liked by 1 person

  3. यही तो बात है…..मुस्कुरा के गम का जहर जिसने पी लिया उसने ज़िंदगी को जीना सिख लिया।

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s