क्या रहने वाला मकान ख़ाली कर गया?

दिल का कोना कभी

ख़ाली ख़ाली सा लगता है.

कभी आबाद ,

कभी वीरान सा लगता है.

क्या वहम है हमारा ?

या

रहने वाला मकान

ख़ाली कर गया?

16 thoughts on “क्या रहने वाला मकान ख़ाली कर गया?

  1. रहने वाला मकान खाली कर सकता है पर उसकी यादें ……

    Liked by 3 people

    1. कविता के भाव समझने के लिए दिली आभार.
      यादें ही यादें …. ख़ुशियाँ भी देती हैं और तकलीफ़ भी.

      Liked by 1 person

  2. अपनो को रहने के लिए मकान नहीं घर चाहिए होता है dear अपने दिल के कौने में तलाश करो शायद कही छुपकर बैठा हो

    Liked by 2 people

    1. शुक्रिया गिरिजा इस प्यारे से जवाब के लिए . घर , मकान सब तलाश लिया. नहीं मिला. हाँ दिल के हर कोने में यादों ने ज़रूर घर बना लिया है.

      Liked by 2 people

  3. दिल का ख़ाली कोना तो यादों से ही आबाद होता है रेखा जी । पंकज उदहास जी की गाई हुई मशहूर ग़ज़ल -‘दीवारों से मिलकर रोना अच्छा लगता है’ का एक शेर है :
    दुनिया भर की यादें हमसे मिलने आती हैं
    शाम ढले इस सूने घर में मेला लगता है

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s